राज्य में 134 निजी टीकाकरण केंद्रों को मंजूरी

कोरोना टीकाकरण में महाराष्ट्र अव्वल

मुंबई

केंद्र ने राज्य में 134  निजी टीकाकरण केंद्रों को मंजूरी दी है। इस बात की जानकारी मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे ने दी है। उन्होंने कहा कि एक तरफ महाराष्ट्र में तेजी से कोरोना के मरीज बढ़ते जा रहे हैं और दूसरी तरफ तेजी से टीकाकरण की चुनौती है। अगले तीन से चार महीने में वरीयता वाले दोनों समूहों को टीका लगाना है। उन्होंने गर्मी के दिनों में टीकाकरण केद्रों पर नागरिकों के लिए पीने के पानी, टायलेट्स व गर्मी से राहत देने की व्यवस्था करने के निर्देश दिए हैं।

वे गुरुवार को वीडियो कॉन्फ्रेसिंग के जरिए संभागीय आयुक्त की बैठक में बोल रहे थे। इस दौरान स्वास्थ्य मंत्री राजेश टोपे, मुख्य सचिव सीताराम कुंटे, स्वास्थ्य विभाग के प्रधान सचिव डॉ प्रदीप व्यास सहित वरिष्ठ अधिकारी उपस्थित थे।

रोजाना 3 लाख टीके दिए जाए

राज्य के 134 निजी अस्पतालों को केंद्र ने टीकाकरण केंद्र की मान्यता दी है। पिछले साल सितंबर माह की तुलना में गुरुवार को रोगियों की संख्या ने नया हाई बनाया है। इसे देखते हुए कोरोना के सभी नियमों का पालन किया जाए। मुख्यमंत्री ने कहा कि कोरोना टीकाकरण में राजस्थान के बाद महाराष्ट्र दूसरे नंबर पर है। यह बात संतोषप्रद है। रोजाना 3 लाख टीके लगाए जाए, इसके लिए योजना बनाई जाए। कोरोना टीकाकरण के गुरुवार तक केआंकड़ों के अनुसार महाराष्ट्र संपूर्ण देश में तकरीबन अव्वल है। अभी तक दोनों डोज को मिलाकर 36 लाख 3 हजार 424  डोज दिए गए हैं। राजस्थान में 36 लाख 84 हजार 84  डोज दिए गए है। ऐसे में राजस्थान, महाराष्ट्र से थोड़ा आगे है।

 टीके को खराब होने से बचाया जाए

मुख्यमंत्री ने कहा कि टीके को बर्बाद होने से बचाया जाए। कुछ राज्य में 20 फीसदी टीका खराब हो रहा है, जबकि महाराष्ट्र में यह दर केवल 6 फीसदी है। मुख्यमंत्री ने कोरोना वायरस से ग्रस्त लोगों में बीमारी के लक्षणों में होने वाले परिवर्तनों पर ध्यान देने का भी निर्देश दिया।को पुनर्प्राप्त नहीं कर सका क्योंकि एक्सप्रेसवे को 2004 में सार्वजनिक उपयोग के लिए खोल दिया गया था और जिसके परिणामस्वरूप, वसूली अब 22,000 करोड़ रुपये है।


Labels:

Post a comment

[blogger]

MKRdezign

Contact form

Name

Email *

Message *

Powered by Blogger.
Javascript DisablePlease Enable Javascript To See All Widget