हर हफ्ते 2 बार मछली खाने वालों को हृदय रोग का खतरा कम


हृदय रोग के मरीजों को हर सप्ताह कम से कम 2 बार मछली खानी चाहिए लेकिन साल्मन, ट्यूना, सार्डिन और कॉड जैसी ऑयली मछली जो ओमेगा-3 फैटी एसिड से भरपूर होती हैं. हर हफ्ते 2 बार इस तरह की मछलियां खाने से कार्डियोवस्कुलर डिजीज और हृदय रोग की वजह से मौत के खतरे को भी कम किया जा सकता है.

क्या कहती है यह नई स्टडी

अपनी इस स्टडी में शोधकर्ताओं ने 4 बड़ी स्टडीज के नतीजों की जांच की जिसमें 58 अलग-अलग देशों के करीब 1 लाख 92 हजार लोग शामिल थे. इस दौरान शोधकर्ताओं ने स्टडी में शामिल प्रतिभागियों द्वारा मछली का सेवन करने की मात्रा और हार्ट अटैक (Heart Attack), स्ट्रोक, हार्ट फेलियर जैसी बीमारियों के साथ उसका क्या संबंध है, इसकी भी जांच की. शोधकर्ताओं ने पाया कि जिन लोगों को पहले से ही हृदय रोग था, अगर उन लोगों ने हर हफ्ते 175 ग्राम मछली खायी तो उनमें बार-बार हृदय से संबंधी बीमारी और हृदय रोग की वजह से मौत का भी खतरा काफी कम हो गया. हालांकि जिन लोगों को हृदय रोग नहीं था, यानी जो लोग स्वस्थ थे उनमें मछली के सेवन से कोई खास फायदा देखने को नहीं मिला.

ओमेगा-3 फैटी एसिड से भरपूर मछली खाएं

अमेरिका के अकैडमी ऑफ न्यूट्रिशिन एंड डायटेटिक्स के प्रवक्ता जेरलिन जोन्स का कहना है कि उस मछली का सेवन ज्यादा फायदेमंद है जिसमें ओमेगा-3 फैटी एसिड होता है. ओमेगा-3 फैटी एसिड में ईपीए और डीएचए पाया जाता है जो पूरे शरीर में इन्फ्लेमेशन को कम करने में मदद करता है जिससे कार्डियोवस्कुलर बीमारियों के खतरे को कम करने में मदद मिलती है.


Post a comment

[blogger]

MKRdezign

Contact form

Name

Email *

Message *

Powered by Blogger.
Javascript DisablePlease Enable Javascript To See All Widget