अलग-अलग हादसों में तीन बच्चों समेत 41 की मौत

पटना 

बिहार में होली समारोह के दौरान बीते दो दिनों में तीन बच्चों सहित कम से कम 41 लोग मारे गए और 38 से अधिक घायल हो गए। होली के मौके पर लॉ एंड ऑर्डर और पुलिस सख्ती के दावों के उलट राज्य भर से हिंसक घटनाएं सामने आईं। पुलिस गोलीबारी, झड़प और ड्रंकन ड्राइविंग को रोकने में पूरी तरह विफल रही। सिर्फ राजधानी पटना में ही गुट संघर्ष में पांच लोगों की हत्या कर दी गई, वहीं नशे में गाड़ी चलाने के कारण समस्तीपुर में दो अलग-अलग सड़क दुर्घटनाओं में चार लोगों की मौत हो गई।

बक्सर की रिपोर्ट के मुताबिक मुफ्फसिल थाना अंतर्गत पांडेयपट्टी गांव की महिला को होली के दिन सोमवार को उस समय गोली मार दी गई जब उसने अपने घर के पास युवकों को अश्लील गाने बजाने से मना करते हुए विरोध किया। इसके बाद  एक युवक ने पिस्टल निकालकर उसे गोली मार दी। बक्सर के एसडीपीओ गोरख राम ने कहा कि गोलीबारी गाने के विवाद के दौरान हुई। महिला के पैर में गोली लगी है। हम मामले की जांच कर रहे हैं। नालंदा में, अश्लील भोजपुरी गाने बजाने का विरोध करने पर उपद्रवियों ने मिया-बिगहा गांव में तीन झोपड़ियों में आग लगा दी और चार लोगों को घायल कर दिया।भागलपुर के बरारी थाना क्षेत्र में दो समुदायों के बीच झड़प में कम से कम छह लोग घायल हो गए, जब सड़क पर क्रिकेट खेलने के दौरान एक समूह पर दूसरा समूह रंग डाल दिया। घटना के बाद दोनों समुदायों ने एक-दूसरे पर हमला किया और कई दुकानों में आग लगा दी। घटना के बाद भागलपुर एसएसपी निताशा गुड़िया ने कहा कि स्थिति सामान्य है और पुलिस दोषियों के खिलाफ एफआईआर दर्ज कर रही है।


Labels:

Post a comment

[blogger]

MKRdezign

Contact form

Name

Email *

Message *

Powered by Blogger.
Javascript DisablePlease Enable Javascript To See All Widget