बच नहीं पाएंगे टैक्स चोर

अप्रैल से आयकर रिटर्न भरने का नया नियम 


नई दिल्ली

कोरोना महामारी के चलते वित्त वर्ष 2019-20 का संशोधित या विलंबित आईटीआर भरने की मियाद बढ़ा दी गई थी। हालांकि, एक बार फिर से केंद्र सरकार ने वित्त विधेयक-2021 के तहत नियम में बदलाव किया है। इसके अनुसार, अगर आप देरी से आयकर रिटर्न भरते हैं तो 1 अप्रैल, 2021 से अधिक विलंब शुल्क देना होगा।

मौजूदा नियम के तहत अगर करदाता आकलन वर्ष का रिटर्न मार्च तक भरने के लिए स्वतंत्र थे। वहीं, इसके बाद दिसंबर तक भरने पर 5000 रुपये का शुल्क और मार्च के अंत तक 10,000 रुपये का शुल्क देना पड़ता था। लेकिन अप्रैल से शुरू होने से यह सुविधा खत्म हो जाएगी। कर दाताओं पर 10000 रुपये देकर बीते वित्त वर्ष का रिटर्न भरने की सुविधा मार्च तक नहीं रहेगी। यह सुविधा दिसंबर तक ही खत्म हो जाएगी। इस अवधि के लिए शुल्क 5000 रुपये ही होगी। हालांकि, अगर आपकी आय पांच लाख रुपये तक है तो आपको 1,000 रुपये का ही शुल्क देना होगा।

कर विशेषज्ञों के अनुसार, यह कदम रिफंड की प्रक्रिया जल्द पूरी करने के लिए उठाया गया है। गौरतलब है कि आयकर विभाग रिफंड जल्द से जारी करने के लिए लगातार प्रयास कर रहा है। इस दिशा में कई बदलाव भी विभाग ने किए है। हाल ही में विभाग ने आयकर रिटर्न के साथ आधार नंबर नहीं देने पर 1000 रुपये का जुर्माना भी लगाया है।विशेषज्ञों के अनुसार, अगर आपने तय समय तक आयकर दाखिल नहीं किया है तो आयकर विभाग आपको नोटिस भी भेज सकता है, अगर उसे मालूम होता है कि आपके पास कर योग्य आय है। ऐसे मामलों में, आपको विलंबित अवधि के लिए ब्याज के साथ देय कर राशि पर जुर्माना का भी भुगतान करना पड़ सकता है। ऐसे में अगर किसी करदाता के पास कर योग्य आय है, लेकिन वह रिटर्न नहीं भरता है तो बाद ने मुश्किल हो सकती है।


Labels:

Post a comment

[blogger]

MKRdezign

Contact form

Name

Email *

Message *

Powered by Blogger.
Javascript DisablePlease Enable Javascript To See All Widget