कोरोना ने फिर पकड़ी रफ्तार

महाराष्ट्र में लॉकडाउन जैसे बन रहे हालात


मुंबई

महाराष्ट्र में कोरोना से हालात लगातार बिगड़ रहे है। पिछले 24 घंटों में यहां 14,317 नए केस सामने आए हैं। यह संख्या कोरोना से प्रभावित टॉप-10 देशों में शामिल रूस, ब्रिटेन, स्पेन और जर्मनी में मिले नए मामलों से ज्यादा हैं। महाराष्ट्र की स्थिति पर केंद्र सरकार ने भी चिंता जताई है। हेल्थ मिनिस्ट्री ने इसकी वजह टेस्टिंग में कमी और लापरवाही को बताया है। वहीं, राज्य सरकार ने कई बड़े शहरों में सख्त पाबंदियां लगा दी हैं।

नागपुर में एक हफ्ते का लॉकडाउन

नागपुर में भी लगातार कोरोना के मामले बढ़ रहे हैं, जिसके चलते सरकार ने नागपुर में 15 से 21 मार्च तक एक सप्ताह का हार्ड लॉकडाउन लगा दिया है। हार्ड लॉकडाउन में बहुत जरूरी गतिविधियों की ही इजाजत होती है। जलगांव नगर निगम सीमा में गुरुवार रात आठ बजे से 15 मार्च की सुबह आठ बजे तक जनता कर्फ्यू लागू किया गया है। संभाजीनगर (औरंगाबाद) में वीकेंड पर लॉकडाउन लागू करने का ऐलान किया है। यहां गुरुवार से कोरोना नियमों को कड़ा कर दिया गया है। सड़क पर पुलिस तैनात की गई है। बिना मास्क पहने घूमने वालों पर कार्रवाई की जा रही है। पिछले दिनों राज्य के मंत्री एकनाथ शिंदे ने बताया था कि 11 मार्च से चार अप्रैल तक संभाजीनगर में रात नौ बजे से सुबह छह बजे तक प्रतिबंध लागू रहेंगे। वीकेंड पर पूरी तरह से लॉकडाउन होगा। इस दौरान स्कूल, कॉलेज, मैरिज हॉल बंद रहेंगे।

राउत ने बताया कि जरूरी सेवाओं को छोड़ कर सभी दुकानों, व्यापारिक प्रतिष्ठानों, सरकारी और निजी ऑफिस बंद रखने का फैसला लिया गया है। लॉकडाउन के दौरान वैक्सीनेशन बंद नहीं होगा। 

नीति आयोग और हेल्थ मिनिस्ट्री के अधिकारियों ने गुरुवार को प्रेस कॉन्फ्रेंस कर देश में कोरोना की स्थिति की जानकारी दी। इस दौरान महाराष्ट्र में कोरोना के बढ़ते मामलों पर चिंता जताई गई। ICMR के डायरेक्टर डॉ. बलराम भार्गव ने कहा कि महाराष्ट्र ने चिंता में डालने वाला ट्रेंड दिखाया है। यहां संक्रमण के मामलों में बढ़ोतरी के पीछे नया स्ट्रैन नहीं पाया गया है।

यह सिर्फ कम टेस्टिंग, ट्रैकिंग, लापरवाही भरे व्यवहार और लोगों के बड़े जमावड़े की वजह से हुआ है।

वहीं, नीति आयोग के मेंबर (हेल्थ) डॉ. वीके पॉल ने कहा कि हम महाराष्ट्र को लेकर बहुत चिंतित हैं। 


Post a comment

[blogger]

MKRdezign

Contact form

Name

Email *

Message *

Powered by Blogger.
Javascript DisablePlease Enable Javascript To See All Widget