'भारत नहीं रहा लोकतांत्रिक देश'

राहुल के बिगड़े बोल


नई 
दिल्ली

कांग्रेस नेता राहुल गांधी ने विवादित बयान दिया है। उन्होंने कहा कि भारत लोकतांत्रिक देश नहीं रहा है। यह बात उन्होंने स्वीडन के एक मीडिया संस्थान की रिपोर्ट का हवाला देते हुए कही। 

राहुल गांधी ने डेमोक्रेसी के बारे में स्वीडन के एक मीडिया संस्थान की रिपोर्ट का जिक्र किया। इसमें भारत में लोकतंत्र के दर्जे को घटाकर इलेक्टोरल ऑटोक्रेसी 'चुनावी एकतंत्रता' या चुनावी निरंकुशता कर दिया है। इससे पिछले सप्ताह भारत ने अमेरिकी वॉचडॉग 'फ्रीडम हाउस' की रिपोर्ट पर तीखी प्रतिक्रिया व्यक्त की थी, जिसमें भी भारत के लोकतांत्रिक दर्जे को घटाया गया था।  इस अमेरिकी संस्था ने भारत में लोकतंत्र व मुक्त समाज के दर्जे को घटाकर आंशिक रूप से मुक्त करार दिया था। राहुल गांधी ने गुरुवार को अपने ट्वीट के साथ एक फोटो भी साझा किया। इसमें लिखा हुआ है कि पाकिस्तान की तरह अब भारत भी निरंकुश देश है।  

भाजपा ने बोला हमला

पूर्व कांग्रेस अध्यक्ष पर हमला बोलते हुए भाजपा नेता राकेश सिन्हा ने कहा, 'पश्चिमी देशों की नवसाम्राज्यवादी ताकतें जो भारत की उभरती हुई ताकत, प्रतिष्ठा और विश्वसनीयता को हजम नहीं कर पा रहे हैं, उसके लिए भारत में एक एजेंट के तौर पर राहुल गांधी काम कर रहे हैं। दो गांधी में इस तरीके का अंतर है। यह इससे समझा जा सकता है कि महात्मा गांधी कैथरीन मेयो ने एक किताब मदर इंडिया लिखी थी उसे गटर की रिपोर्ट बताया था। आज कनाडा की एक संस्था ने जो रिपोर्ट जारी की है उसको राहुल गांधी प्रतिष्ठा देने की कोशिश कर रहे हैं। 

पार्टी प्रवक्ता संबित पात्रा ने कहा कि यदि राहुल गांधी को लगता है कि अब हिंदुस्तान लोकतांत्रिक देश नहीं है और पाकिस्तान बन गया है तो वो मुक्त हैं, बोरिया बिस्तर उठा कर अपनी नानी के घर जाएं और वहां से चुनाव लड़ें।


Post a comment

[blogger]

MKRdezign

Contact form

Name

Email *

Message *

Powered by Blogger.
Javascript DisablePlease Enable Javascript To See All Widget