एकमुश्त निवेश या एसआईपी: शुरुआत के लिए बेहतर विकल्प

savings

नई दिल्ली 

दुनिया भारत की जनसांख्यिकीय क्षमता की ओर उत्सुकता से देख रही है और देश के मिलेनियल्स और जनरेशन ज़ी अपने सपनों के निर्माण के लिए शुरुआती निवेश को लेकर उत्साह दिखा रही है। बेहतर इंटरनेट पहुंच और बाजारों के बारे में जागरूकता की वजह से पूंजी बाजारों में नए निवेशकों की संख्या तेजी से बढ़ रही है। अधिक से अधिक भारतीय सिस्टमेटिक इन्वेस्टमेंट प्लान (एसआईपी) से जुड़ रहे हैं और म्यूचुअल फंड्स के माध्यम से एकमुश्त निवेश कर रहे हैं। और फिर भी वे अपने पोर्टफोलियो को संरचित करने के लिए सर्वोत्तम संभव निवेश विकल्प के बारे में मार्गदर्शन मांग रहे हैं। यदि निवेशक अपने म्यूचुअल फंड निवेश विकल्पों के बारे में निश्चित नहीं है, तो बाजार में आज उपलब्ध विकल्पों की अधिकता अनिर्णय का कारण बन सकती है। नए और शुरुआती निवेशकों के लिए एक बारहमासी प्रश्न रहता है और उनके लिए यह निर्णय चिंता का विषय रहता है कि शुरू में किस टूल को चुनना है। कई निवेशकों में भ्रम रहता है कि एकमुश्त निवेश करना बेहतर है या एसआईपी के विकल्प को चुनना? एंजल ब्रोकिंग लिमिटेड के इक्विटी स्ट्रैटेजिस्ट-डीवीपी ज्योति रॉय बताते हैं कि यह दोनों कई उद्देश्यों को पूरा करते हैं, और निर्णय उन उद्देश्यों के आधार पर किया जाना चाहिए जिन्हें वे प्राप्त करना चाहते हैं। 


Labels:

Post a comment

[blogger]

MKRdezign

Contact form

Name

Email *

Message *

Powered by Blogger.
Javascript DisablePlease Enable Javascript To See All Widget