जदयू में विलय के पहले कुशवाहा को झटका

पटना

नीतीश कुमार के साथ उपेंद्र कुशवाहा के जाने से पहले शुक्रवार को तेजस्वी यादव ने रालोसपा को बड़ा झटका दिया है। उन्होंने रालोसपा के प्रभारी प्रदेश अध्यक्ष वीरेंद्र कुशवाहा और प्रधान महासचिव निर्मल कुशवाहा समेत 35 नेताओं को राजद में शामिल करा लिया है। वीरेंद्र को रालोसपा में लोकसभा चुनाव से पहले उस वक्त प्रभारी प्रदेश अध्यक्ष की जिम्मेवारी दी गई थी, जब भूदेव चौधरी ने पाला बदलकर राजद की सदस्यता ली थी। तेजस्वी की मौजूदगी में राजद के प्रदेश अध्यक्ष जगदानंद सिंह ने रालोसपा के सभी नेताओं को राजद की सदस्यता दिलाई। इनमें बिहार के साथ झारखंड के भी कई नेता हैं। इस दौरान तेजस्वी ने प्रेस कॉन्फ्रेंस को संबोधित करते हुए उपेंद्र कुशवाहा को पुरानी बातें याद दिलाईं। तेजस्वी ने कहा कि महागठबंधन के साथ रहते हुए उपेंद्र कुशवाहा कहा करते थे कि नीतीश कुमार जैसे दोस्त के रहते हुए दुश्मन की जरूरत नहीं पड़ती है। अब कुशवाहा उन्हीं नीतीश कुमार के साथ राजनीति करने जा रहे हैं। तेजस्वी ने कहा कि नीतीश कुमार भी कुशवाहा के बारे में आपत्तिजनक टिप्पणी कर चुके हैं। कुशवाहा के नीतीश प्रेम के कारण रालोसपा में भगदड़ मची हुई है। कुशवाहा को छोड़कर बाकी पूरी पार्टी का राजद में विलय हो गया है। आगे भी जितने लोग आएंगे, उनका राजद में स्वागत किया जाएगा। 

 इन्होंने थामा राजद का दामन

 रालोसपा को छोड़कर राजद की सदस्यता लेने वालों में वीरेंद्र कुशवाहा और निर्मल कुशवाहा के अलावा महिला प्रकोष्ठ की अध्यक्ष मधु मंजरी मेहता, झारखंड के पूर्व प्रदेश अध्यक्ष विजय महतो और सज्जन महतो, राष्ट्रीय महासचिव युवा प्रकोष्ठ दिवाकर कुशवाहा, प्रवक्ता अमित कुमार, प्रदेश महासचिव कृष्ण कुमार महतो और मो.इजहार, चंदन बिहारी, दिनेश कुशवाहा समेत कुल 35 नेता शामिल हैैं।

 


Labels:

Post a comment

[blogger]

MKRdezign

Contact form

Name

Email *

Message *

Powered by Blogger.
Javascript DisablePlease Enable Javascript To See All Widget