चोरी करने वाले चोर को पकड़ने वाले के खिलाफ सरकार : फड़नवीस

रैकेट चलाने वाले के खिलाफ कार्रवाई करने की मानसिकता नहीं  

fadanvis

मुंबई

पूर्व पुलिस आयुक्त परमबीर सिंह और आईपीएस रश्मि शुक्ला फोन टैपिंग मामले को लेकर राज्य की राजनीति गरमाई हुई है. इन दोनों मुद्दों को लेकर सत्तापक्ष और विपक्ष बीच राजनीतिक घमासान शुरू है. इसी के तहत विधानसभा में विपक्ष के नेता देवेंद्र फड़नवीस द्वारा लगाए गए राज्य सरकार पर गंभीर आरोप से सरकार की टीम से खलबली मची हुई है. दूसरी तरफ गुरुवार को दादर स्थित नायगांव में आयोजित क्रिकेट कार्यक्रम में हिस्सा लेकर फड़नवीस ने बल्लेबाजी की. इस अवसर पर उन्होंने कहा कि मैं बचपन में क्रिकेट खेलता था, जब मैं बल्लेबाजी और गेंदबाजी करता था। फील्डिंग शायद ही कभी की। लेकिन जब फील्डिंग की बात आती है तो मैं कभी भी कैच लेने से नहीं चूकता था. फोन टैपिंग मुद्दे पर घिरी आईपीएस रश्मि शुक्ला मामले सरकार से सवाल पूछते हुए फड़नवीस ने कहा कि रश्मि शुक्ला मामले में किससे पूछताछ की जाए ? उनसे जो या चोरी करते थे या करवाते थे. यह इस सरकार का न्याय है कि हम चोरी करने वालों की रिहाई करेंगे और उनकी जांच करेंगे  जिन्होंने चोर को पकड़ा है. फोन टैपिंग मामले में जिस प्रकार सरकार की भूमिका सामने आ रही है, इससे यह स्पष्ट है कि यह सरकार किसको बचा रही है। पूर्व सीएम ने कहा कि इस सरकार ने जो बातचीत की है, नेताओ और अधिकारियों के बीच जो लेन-देन का जो रैकेट चला है, उसके खिलाफ कार्रवाई करने की मानसिकता नहीं है। एक महिला अधिकारी को निशाना बनाते हुए क्या हमारी कोई  सीमा है। लेकिन जिन लोगों ने बात की है, उनके बारे में सोचना मूर्खतापूर्ण है। शिवसेना सांसद संजय राउत द्वारा राकांपा प्रमुख शरद पवार को यूपीए का नेतृत्व करने की मांग पर कटाक्ष करते हुए फड़नवीस ने कहा कि यूपीए के कप्तान 16वें विकेट हैं। उनके अनुसार यह मायने नहीं रखता कि कप्तान कौन है। उसके लिए आपको टीम में रहना होगा। टीम के बाहर किसी व्यक्ति के होने का कोई मतलब नहीं है।


Labels:

Post a comment

[blogger]

MKRdezign

Contact form

Name

Email *

Message *

Powered by Blogger.
Javascript DisablePlease Enable Javascript To See All Widget