राज्य की जेलों में क्षमता से अधिक कैदी

मुंबई

राज्य की कुल 60 जेलों में क्षमता से 137 फीसदी कैदी रह रहे हैं। विधानसभा में इस बात की जानकारी राज्य के गृह मंत्री अनिल देशमुख ने किया है। एक सवाल के जवाब में गृह मंत्री ने कहा कि 31 जनवरी 2021 तक राज्य की कुल 60 जेलों में कैदियों की कुल क्षमता 24,033 है। जेलों में बंद कैदियों की प्रत्यक्ष क्षमता 32,997 है। इस तरह जेलों में क्षमता से 137 फीसदी अधिक कैदी रह रहे हैं।

उन्होंने कहा कि राज्य की मुंबई, येरवडा, ठाणे, औरंगाबाद, नागपुर, अमरावती, नाशिक रोड, कोल्हापुर और तलोजा जैसी नौ सेंट्रल जेलों में कैदियों की क्षमता 14,491 है। 31 जनवरी 2021 तक सभी नौ केंद्रीय जेलों में कैदियों की संख्या 23,858 थी। यहां क्षमता से 165 फीसदी कैदी ज्यादा रह रहे हैं।

राज्य की सभी जिलों में अधिकृत महिला कैदियों की संख्या 1275 है। 31 जनवरी 2021 तक राज्य में कुल महिला के दिन की संख्या 1421 है। जेल में बंद कैदियों की संख्या कम करने के उद्देश्य से मुंबई, गोंदिया, अहमदनगर, पालघर और हिंगोली में नवीन कारागृह बनाने का काम तथा येरवडा, पुणे और ठाणे जिलों में उपलब्ध जगह पर दूसरे कारागृह बनाने का काम प्रस्तावित है। गृह मंत्री ने बताया कि जिला और खुले कारागृह में अतिरिक्त तथा नवीन बैरक्स बनाने के संबंध में कार्रवाई शुरू है।


Labels:

Post a comment

[blogger]

MKRdezign

Contact form

Name

Email *

Message *

Powered by Blogger.
Javascript DisablePlease Enable Javascript To See All Widget