उद्धव सरकार को संतों का अल्टीमेटम

पालघर साधुओं का हत्या मामला


मुंबई

पिछले साल पालघर जिले में हुई साधुओं की निर्मम हत्या मामले में संत समाज को न्याय नहीं मिलने से संतो में नाराजगी बढ़ती जा रही है। अखिल भारतीय अखाड़ा परिषद के अध्यक्ष स्वामी नरेंद्र गिरी के सुशिष्य तथा प्रयागराज बड़े हनुमान पीठ के महंत स्वामी आनंद गिरि महाराज ने राज्य की उद्धव ठाकरे सरकार को आंदोलन की चेतावनी देते हुए गुनहगारों के खिलाफ कार्रवाई की मांग की है। शनिवार को दो दिवसीय मुंबई दौरे पर आए स्वामी आनंद गिरि महराज ने पत्रकारों से बातचीत में पालघर जिले में हुए संतो की हत्या मामले में राज्य सरकार पर आरोपियों को बचाने का गंभीर आरोप लगाया। उन्होंने कहा कि सरकार द्वारा जानबूझकर न्यायालय में मजबूत पक्ष न रखने के कारण आरोपियों को जमानत मिल गई है, जो जेल से छूटने के बाद जश्न मना रहे है।

उन्होंने कहा कि सरकार से मेरा सवाल है कि आरोपियों पर 120 बी, 427, 147, 302,148 और 149 जैसे गंभीर धारा लगने के बाद उन्हें कैसे जमानत मिल गई। इस पूरे मामले की जांच कर रहे विजय पवार पर सवाल उठाते हुए आनंद गिरि ने कहा कि सरकार के दबाव में पवार ने निष्पक्ष जांच नहीं कि जिसके कारण मामले में सभी 115 आरोपियों को जमानत मिल गई है। पुलिस की जांच से असंतुष्ट पूरे मामले की जांच एसआईटी या सीबीआई से कराने की मांग करते हुए गिरि महाराज ने कहा कि राज्य की उध्दव ठाकरे सरकार पालघर जिले में हुए साधुओं की निर्मम हत्या को लेकर गंभीर नहीं है। शिवसेना प्रमुख दिवंगत बालासाहेब ठाकरे के रहते हुए हिंदुओं और साधु-संतो को पूरा सम्मान मिलता था। अयोध्या में गिराई गई बाबरी मस्जिद में उनका बड़ा योगदान रहा है।   

मालवणी से हिंदुओं का पलायन रोका जाए 

मालाड पश्चिम के मुस्लिम बाहुल्य मालवणी से हिंदुओं के लगातार पलायन को रोकने के लिए साधु संत क्या कदम उठाएंगे के सवाल पर गिरि महाराज ने मामले को गंभीर बताते हुए कहा कि राज्य की सरकार की लापरवाही और हिंदु समाज के प्रति असंवेदनशीलता के कारण मालवणी में हिंदु पलायन करने पर मजबूर हैं, लेकिन मैं समाज को आश्वस्त करता हूं कि इस मुद्दे को हम जोर-शोर से उठाएंगे और पलायन को रोकने की पूरी कोशिश करेंगे।


Labels:

Post a comment

[blogger]

MKRdezign

Contact form

Name

Email *

Message *

Powered by Blogger.
Javascript DisablePlease Enable Javascript To See All Widget