रानी अवंतीबाई बलिदान दिवस पर CM योगी का बड़ा ऐलान

लखनऊ

उत्तर प्रदेश मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने शनिवार को भारत के प्रथम स्वाधीनता संग्राम में महत्वपूर्ण भूमिका निभाने वाली प्रथम महिला शहीद वीरांगना अवंतीबाई के बलिदान दिवस पर लखनऊ के हजरतगंज स्थित उनकी माल्यार्पण कर श्रद्धांजलि अर्पित की। सीएम योगी के साथ उन्नाव के सांसद साक्षी महाराज, मध्य प्रदेश की पूर्व मुख्यमंत्री उमा भारती समेत प्रदेश सरकार के कई मंत्री भी मौजूद रहे।

मुख्यमंत्री ने अवंतीबाई समेत तमाम वीरांगनाओं को याद करते हुए कहा कि रानी लक्ष्मीबाई और अवंतीबाई लोधी ने विदेशी हुकूमत की दासता स्वीकार करने से इंकार कर दिया था और देश की स्वाभिमान के लिए वे अंतिम दम तक लड़ती रहीं। उनका बलिदान भारत की एकता और अखंडता को बनाए रखने के लिए हमें एक नई प्ररेणा देता है। इन महान वीरांगनाओं से प्ररित होकर यूपी सरकार ने प्रदेश में मातृशक्ति की सुरक्षा, सम्मान के लिए मिशन शक्ति का कार्यक्रम शुरू किया।

सीएम योगी ने कहा कि प्रदेश के 1535 स्थानों में 350 तहसीलों में महिला सुरक्षा डेस्क स्थापित की गई है। प्रदेश सरकार ने तीन (रानी अवंतीबाई लोधी, उदय देवी और झलकारीबाई) महान वीरांगनाओं के नाम पर तीन महिला बटालियन की घोषणा की है, जिन्होंने देश की स्वाधीनता की आंदोलन में अपना बलिदान दिया। मुख्यमंत्री ने अवंतीबाई के नाम से PAC में महिला बटालियन की स्थापना का ऐलान करते हुए कहा है कि इस बटालियन की आज से स्थापना होने जा रही है। रानी अवन्तीबाई लोधी भारत के प्रथम स्वाधीनता संग्राम में महत्वपूर्ण भूमिका निभाने वाली प्रथम महिला शहीद वीरांगना थीं। 1857 की क्रांति में रामगढ़ की रानी अवंतीबाई रेवांचल में मुक्ति आंदोलन की सूत्रधार थीं। 

1857 के मुक्ति आंदोलन में इस राज्य की अहम भूमिका थी, जिससे भारत के इतिहास में एक नई क्रांति आई। 1817 से 1851 तक रामगढ़ राज्य के शासक लक्ष्मण सिंह थे। उनके निधन के बाद विक्रमाजीत सिंह ने राजगद्दी संभाली। उनका विवाह बाल्यावस्था में ही मनकेहणी के जमींदार राव जुझार सिंह की कन्या अवंतीबाई से हुआ। विक्रमाजीत सिंह बचपन से ही वीतरागी प्रवृत्ति के थे। 


Labels:

Post a comment

[blogger]

MKRdezign

Contact form

Name

Email *

Message *

Powered by Blogger.
Javascript DisablePlease Enable Javascript To See All Widget