कोविड सेंटर में आग, 14 मरीजों की मौत

virar fire

विरार

विरार (पश्चिम) स्थित विजय वल्लभ कोविड सेंटर के ICU में आग लगने से 14 मरीजों की मौत हो गई। इनमें 4 महिलाएं शामिल हैं। हादसे के वक्त ICU में 15 मरीज थे और पूरे अस्पताल में 90 मरीज भर्ती थे। इनमें से ऑक्सीजन सपोर्ट वाले 21 मरीजों को दूसरे अस्पताल में शिफ्ट किया गया है। आग लगने की घटना शुक्रवार तड़के 3 बजकर 25 मिनट की है। आग पर एक घंटे के अंदर काबू पा लिया गया। आग लगने की वजह AC में शॉर्ट सर्किट होना बताया जा रहा है। मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे ने घटना की जांच के आदेश दिए हैं।

परिजनों का आरोप- मरीजों के परिजनों का आरोप है कि जब आग लगी तब हॉस्पिटल का स्टाफ मरीजों को अंदर छोड़कर बाहर भाग आया था। ऐसे में उन्होंने (परिजन) खुद अंदर जाकर मरीजों को बाहर निकालने की कोशिश की थी। बताया जा रहा है कि हादसे के वक्त ICU में दो नर्स मौजूद थीं। वहीं अस्पताल के CEO दिलीप शाह ने दावा किया कि रात में अस्पताल में डॉक्टर थे। लेकिन उनसे जब पूछा गया कि हादसे के वक्त कुल कितना स्टाफ ड्यूटी पर था तो वे सही आंकड़ा नहीं बता पाए।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने विरार की घटना पर दुख जताया है। उन्होंने कहा है कि हादसे में जान गंवाने वाले लोगों के प्रति गहरी संवेदना है। घायलों के जल्द स्वस्थ्य होने की कामना करता हूं। वहीं, प्रधानमंत्री राहत कोष से मृतकों के परिजनों को 2-2 लाख रुपए देने की घोषणा की है। गंभीर रूप से झुलसे लोगों को 50-50 हजार रुपए दिए जाएंगे। महाराष्ट्र के मंत्री एकनाथ शिंदे ने कहा है कि जो भी जिम्मेदार हैं उन पर कार्रवाई की जाएगी। महाराष्ट्र सरकार ने मृतकों के परिजनों को 5- 5 लाख रुपए की मदद देने की घोषणा की है।

महाराष्ट्र के स्वास्थ्य मंत्री बोले- यह नेशनल न्यूज नहीं

14 लोगों की मौत के बाद महाराष्ट्र के स्वास्थ्य मंत्री राजेश टोपे ने हादसे को नेशनल नहीं होने की बात कहकर बवाल खड़ा कर दिया है। उनकी कड़ी आलोचना की जा रही है। टोपे के बयान पर समूचे विपक्ष ने उन पर जमकर हमला बोला तो शाम होते-होते उन्होंने पूरे मामले पर सफाई देते हुए कहा कि उनके बयान को गलत ढंग से पेश किया जा रहा है।


Labels:

Post a comment

[blogger]

MKRdezign

Contact form

Name

Email *

Message *

Powered by Blogger.
Javascript DisablePlease Enable Javascript To See All Widget