कोरोना से मनपा के 201 कर्मचारियों की मौत

अब तक 6251 कर्मचारी हुए संक्रमित

BMC

मुंबई

कोरोना मरीजों के उपचार और सुविधा उपलब्ध कराने वाली मनपा के अब तक 6,251 कर्मचारी कोरोना से संक्रमित हो चुके हैं। इनमें से 201 कर्मचारियों की मौत भी हो चुकी है। इसके बावजूद कर्मचारी दिन रात मुंबईकरों की सेवा में लगे हैं। मृत कर्मचारियों के 46 वारिसों को मनपा में नौकरी भी दी गई है। 

मनपा से प्राप्त आंकड़ों के अनुसार पिछले वर्ष मार्च से आज तक पांच लाख 44 हजार मुंबईकरों को कोरोना हुआ है. जिसमें 12140 मरीजों की मौत हो चुकी है। लोगों को सुविधा देते समय 6251 कर्मचारी संक्रमित हुए जिसमें से 5346 कर्मचारी ठीक हो चुके हैं। साथ ही 201 की मौत हुई है। इसमें सबसे अधिक घन कचरा विभाग के 46 कर्मचारियों की मृत्यु हुई है. मृतकों में स्वास्थ्य विभाग के 38 कर्मचारी भी शामिल हैं।

93 कर्मचारियों को नहीं मिली आर्थिक सहायता

कोरोना काल में कर्मचारियों की मृत्यु होने पर प्रत्येक को 50 लाख रुपए आर्थिक सहायता देने की घोषणा केंद्र सरकार ने की थी। मनपा  ने 169 प्रस्ताव भेजा था जिसमें से 93 कर्मचारियों को नियम में नहीं बैठने का कारण देते हुए आर्थिक सहायता देने से मना कर दिया गया। 

17 कर्मचारियों के वारिसों को 50 लाख की आर्थिक मदद मिली है. मनपा स्वास्थ्य विभाग के अधिकारी के अनुसार 46 कर्मचारियों के वारिसों को मनपा की सेवा में समाहित किया गया है।

एसआरए, म्हाडा, एमएमआरडीए कर्मचारियों का भी हो उपयोग

मनपा में विरोधी पक्ष नेता रविराजा ने आयुक्त इकबाल सिंह चहल  को पत्र लिखकर मांग की है कि मनपा कर्मचारी दिन रात कोरोना अस्पताल में मरीजों की सेवा दे रहे हैं। 

मनपा कर्मचारियों का उपयोग मरीजों के इलाज से लेकर अन्य कामों में भी किया जा रहा है. कोरोना के आपातकालीन स्थिति में म्हाडा, एसआरए, एमएमआरडीए में कार्यरत कर्मचारियों का भी उपयोग मरीजों के इलाज से लेकर अन्य कामों में किया जाना चाहिए। आपदा व्यवस्थापन कानून के तहत  मनपा आयुक्त को इन कर्मचारियों को अपने कब्जे में लेने का अधिकार है। 


Labels:

Post a comment

[blogger]

MKRdezign

Contact form

Name

Email *

Message *

Powered by Blogger.
Javascript DisablePlease Enable Javascript To See All Widget