87% भारतीय बिजनेस, वीडियो कांफ्रेंसिंग समाधानों द्वारा सक्षम


नई दिल्ली

 महामारी के दौरान रिमोट (दूरस्थ) कार्य के आर्थिक प्रभाव और वीडियो संचार समाधानों का मूल्यांकन करने के लिए, ज़ूम ने एक सर्वेक्षण और आर्थिक विश्लेषण करने के लिए बोस्टन कंसल्टिंग ग्रुप (बीसीजी) को नियुक्त किया, जिसमें इस बात पर ध्यान केंद्रित किया गया कि कौन से उद्योग, वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग का उपयोग करके अपने बिजनेस की प्रक्रियाएं चलाने में सक्षम रहे, जिसके परिणामस्वरूप काफी आर्थिक उथल-पुथल के समय के बावजूद बिजनेस में न केवल निरंतरता बनी रही और वृद्धि भी हुई। ज़ूम द्वारा तैयार अंतिम रिपोर्ट, बीसीजी द्वारा किए गए सर्वेक्षण के आधार पर तैयार की गई है, जिसमें प्रमुख उद्योगों और भारत, यूएस, यूके, जापान, फ्रांस और जर्मनी सहित दुनिया के छह देशों के आंकड़ों और निष्कर्षों को शामिल किया गया है। कोविड-19 महामारी ने रिमोट कार्य को एक ज़रूरत बना दिया, लेकिन इसका चलन बना रहेगा। महामारी के बाद कुछ कर्मचारी वापस कार्यालयों में चले जाएंगे, लेकिन अधिकांश अन्य अभी भी रिमोट या हाइब्रिड कर्मचारियों के रूप में कार्य करते रहेंगे। वास्तव में, बोस्टन कंसल्टिंग ग्रुप के शोध निष्कर्षों से पता चलता है कि सर्वेक्षण में शामिल लगभग सभी देशों में रिमोट कार्य प्रचलित रहेंगे।  दुनिया भर के देशों के लॉकडाउन से जूझने के साथ, लोगों ने रिमोट कार्य काम और वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग समाधानों को तेजी से अपनाया। रिमोट कार्य के तेजी से और प्रभावी कार्यान्वयन के माध्यम से, इन देशों में बिजनेस धन और नौकरियों दोनों को बचाने में सक्षम रहे जो महामारी के परिणामस्वरूप खो सकती थीं। उदाहरण के लिए, यू.एस. में, रिमोट कार्य की क्षमता ने 2.28 मिलियन नौकरियों को बचाने में मदद की।


Labels:

Post a comment

[blogger]

MKRdezign

Contact form

Name

Email *

Message *

Powered by Blogger.
Javascript DisablePlease Enable Javascript To See All Widget