महाराष्ट्र में लॉकडाउन जैसी पाबंदियां


मुंबई

महाराष्ट्र के सीएम उद्धव ठाकरे ने कोरोना संकट से निपटने के लिए कड़े प्रतिबंधों का ऐलान किया है। प्रदेश में बीते साल की तरह पूर्ण लॉकडाउन नहीं रहेगा, लेकिन सभी गैर-जरूरी सेवाएं बंद रहेंगी और बेवजह निकलने पर रोक होगी। सीएम उद्धव ठाकरे ने 14 अप्रैल को रात 8 बजे से सूबे में धारा 144 लागू करने का ऐलान किया है। उन्होंने कहा कि हो सकता है कि यह आपके मन-मुताबिक न हो, लेकिन तब भी ऐसा करना पड़ रहा है। पूरे राज्य में अगले 15 दिन तक संचार बंदी लागू रहेगी। उन्होंने लॉकडाउन शब्द का इस्तेमाल न करते हुए इसे ‘ब्रेक द चेन अभियान’ करार दिया। उद्धव ठाकरे ने साफ किया कि जरूरी सेवाओं को छोड़कर सारे दफ्तर बंद रहेंगे। ईकॉमर्स, बैंक, मीडिया, पेट्रोल पंप, सुरक्षा गार्ड जैसे लोगों को इसमें छूट दी गई है। प्राइवेट गाड़ियों को सिर्फ इमर्जेंसी की सूरत में इजाजत, उल्लंघन पर 1 हजार रुपये का लगेगा जुर्माना। किराना, सब्जी, फल, दूध, बेकरीज ​ॎको छूट रहेगी।

गरीबों को राशन से लेकर कैश तक की मदद का ऐलान

कंस्ट्रक्शन के काम में लगे मजदूरों को प्रति माह 1,500 रुपये की आर्थिक मदद देने वाले हैं। अधिकृत फेरी वालों को भी मदद दी जाएगी। रिक्शे वालों को भी 1,500 रुपये और आदिवासियों को 200 रुपये महीने की मदद मिलेगी। 7 करोड़ लोगों को 3 किलो गेहूं और 2 किलो चावल अगले तीन महीने तक मिलेगा। यह सुविधा राशन कार्ड होल्डर्स को सरकारी दुकानों से मिलेगी। सीएम ने कहा कि इस आंशिक लॉकडाउन के दौरान किसी की रोजी-रोटी पर संकट न आए, ऐसा हमारा प्रयास रहेगा। हमने 3,300 करोड़ रुपये की रकम कोविड के लिए मंजूर की है, जिससे लोगों को मदद दी जाएगी। हमने कुल 5,500 करोड़ रुपये का बजट कोरोना के लिए तय किया है। उन्होंने कहा कि अब हमारे सामने कोई चारा नहीं है, इसलिए हम ऐसा कर रहे हैं। आरोग्य सुविधाओं और वैक्सीनेशन को बढ़ाने के लिए हमने यह फैसला लिया है। मेरी सभी से हाथ जोड़कर विनती है कि इसका पालन करें।

आवाजाही पर पाबंदी, दफ्तरों को बंद करने का आदेश

पूरे सूबे में आने-जाने पर पाबंदी लगा दी गई है। सुबह 7 से रात 8 बजे तक जरूरी सेवाएं जारी रहेंगी। ट्रांसपोर्ट बंद नहीं रहेंगे, लेकिन ये सब सेवाएं जरूरी चीजों के लिए ही रहेंगी। सभी दफ्तरों और संस्थानों को 15 दिनों के लिए बंद किया जाएगा। हमने लंबे समय तक विचार किया है, लेकिन अब सख्त कदम उठाने का वक्त आ गया है। मैं लॉकडाउन की बात नहीं कर रहा हूं, लेकिन हम कुछ सख्त प्रतिबंध लगा रहे हैं। हमें इस मामले में ब्रिटेन से सीख लेने की जरूरत है।

वैक्सीनेशन से कमजोर होगी आने वाली लहर, डॉक्टरों से मदद की गुहार

सीएम उद्धव ठाकरे ने कहा कि हम कोरोना के पीक तक पहुंचे हैं या नहीं, यह कह नहीं सकते। आंकड़ों में कब तक इजाफा जारी रहेगा, यह भी नहीं कहा जा सकता। ऐसे में हमें कोरोना वैक्सीनेशन की प्रक्रिया को तेज करना होगा ताकि आने वाली लहर को कमजोर किया जा सके। हमने पिछली बार आप लोगों की मदद से कोरोना को नियंत्रित किया था, लेकिन इस बार हालात अलग हैं। उद्धव ठाकरे ने नए डॉक्टरों से अपील की कि वे कोरोना के संकट में मदद करें। इसके अलावा उन्होंने रिटायर्ड डॉक्टरों से भी कोरोना संकट में आगे आने की अपील की।

पीएम से की मदद के ऐलान की अपील

अपने संबोधन के दौरान उद्धव ठाकरे ने कहा कि कारोबारियों को जीएसटी रिटर्न फाइल करने के लिए तीन महीने की मोहलत दी जाए। डेडलाइन में इजाफा करने से छोटे कारोबारियों को मदद मिलेगी। हमने कोरोना संकट से निपटने के लिए परीक्षाओं को भी आगे बढ़ा दिया है। इसके अलावा हम केंद्र सरकार से अपील करते हैं कि पाबंदियों के चलते जो लोग आर्थिक तौर पर प्रभावित हो रहे हैं, उन्हें भी मदद की जाए। पीएम ने कहा कि आप 4 दिन टीका उत्सव करें, मैं कहता हूं कि 4 दिन ही नहीं, हमारे यहां तो हर दिन यह चल रहा है।

24 घंटे में महाराष्ट्र में मिले कोरोना के 60 हजार से ज्यादा केस

उद्धव ने कहा कि 24 घंटे में महाराष्ट्र  में 60,000 से ज्यादा कोरोना केस सामने आए हैं। इसके अलावा मुंबई में 7,898 नए केस मिले हैं। सीएम ने कहा कि हमने इस साल की शुरुआत कोरोना मुक्त होने के लक्ष्य के साथ की थी, लेकिन ऐसा नहीं हो सका। बीच में ऐसा लगा था कि जैसे हम इस महामारी से जीत गए हैं, लेकिन फिर से इसका उभार हुआ है। हम युद्ध स्तर पर लड़ेगे और आप लोगों के सहयोग से इस महामारी को ​फिर से परास्त करने में सफल होंगे।

क्या रहेगा खुला किस पर होगी रोक

महाराष्ट्र सरकार की ओर से जारी गाइडलाइंस के मुताबिक, सिनेमा, हॉल, थिएटर, ऑडिटोरियम, मनोरंजन पार्क, जिम, स्पोर्ट्स कॉम्पलेक्स बंद रहेंगे। फिल्मों और सीरियल की शूटिंग पर रोक लगा दी गई है। जरूरी सेवाओं को  छोड़कर अन्य सभी दुकानें और मॉल बंद रहेंगे। पूजा के सभी स्थल, स्कूल, कॉलेज और प्राइवेट कोचिंग क्लास, सैलून, स्पा और ब्यूटी पार्लर भी 1 मई सुबह 7 बजे तक बंद रहेंगे। 

जरूरी सेवाओं को छोड़कर अन्य दफ्तर बंद रहेंगे। पब्लिक ट्रांसपोर्ट को बंद नहीं किया गया है, लेकिन लोकल ट्रेन और बसों का इस्तेमाल केवल जरूरी सेवाओं में लगे लोग ही कर पाएंगे। ई-कॉमर्स सेवा, पेट्रोल पंप और सेबी से जुड़े वित्तीय संस्थान खुले रहेंगे। बैंकों में कामकाज जारी रहेगा। कंस्ट्रक्शन कार्य भी किए जा सकते हैं। हालांकि, कंस्ट्रक्शन कंपनियों से कहा गया है कि वे मजदूरों के साइट पर रहने की ही व्यवस्था करें।  होटल और रेस्तरां को केवल टेक अवे और होम डिलीवरी की इजाजत दी गई है।  सभी अस्पताल, जांच केंद्र, क्लीनिक, वैक्सीनेशन सेंटर, मेडिकल इंस्योरेंस ऑफिस, दवा की कंपनियां और दुकानें, सेनिटाइजर्स, मास्क सहित मेडिकल इक्विपमेंट के निर्माण, वितरण, बिक्री आदि को पाबंदियों से पूरी तरह छूट दी गई है। सब्जियों, फलों, डेयरी, बेकरी और किराना दुकानें खुली रहेंगी। पब्लिक ट्रांसपोर्ट, टैक्सी, ऑटो और पब्लिक बसें चलती रहेंगी, लेकिन इनमें केवल जरूरी सेवाओं से जुड़े लोगों को सफर की इजाजत होगी। मालवाहक गाड़ियों की आवाजाही बाधित नहीं होगी। डेटा सेंटर्स, क्लाउड सर्विसेज और आईटी सर्विसेज को भी पाबंदियों से छूट दी गई है। मीडिया, सरकारी-प्राइवेट सिक्यॉरिटी सर्विसेज, गैस सप्लाई सर्विस, पोस्टल सर्विस को छूट के दायरे में रखा गया है।

Post a comment

[blogger]

MKRdezign

Contact form

Name

Email *

Message *

Powered by Blogger.
Javascript DisablePlease Enable Javascript To See All Widget