स्पुतनिक वैक्सीन को मिली मंजूरी

कोरोना के खिलाफ एक और हथियार

sputnik vaccine

नई दिल्ली

आखिरकार भारत में कोरोना के खिलाफ जंग में एक और शस्त्र मिल ही गया। भारत की विशेषज्ञ समिति ने रूस की स्पुतनिक-वी  वैक्सीन के आपात इस्तेमाल की मंजूरी दे दी है। स्पुतनिक-वी  वैक्सीन कोरोना वायरस के खिलाफ 91.6 फीसदी असरकारी साबित हुई है।  

रूस का यह कोरोना रोधी टीका श्वसन रोग पैदा करने वाले एडेनोवायरस-26 (Ad26) और एडेनोवायरस-5 (Ad5) पर आधारित है। इसका इस्तेमाल कोरोना वायरस (सार्स कोव-2) स्पाइक प्रोटीन के खिलाफ मजबूत प्रतिरक्षा तंत्र तैयार करने में किया जाता है।  इसकी दो अलग-अलग खुराक 21-21 दिन के अंतराल में दी जाती है। आमतौर पर सभी कोरोना वैक्सीन की दोनों खुराक में एक ही दवा दी जाती है, लेकिन स्पूतनिक-वी की दोनों खुराक में अलग-अलग दवा दी जाती है। देश में फिलहाल एस्ट्राजेनेका की कोविशील्ड व भारत बॉयोटेक की कोवैक्सीन से टीकाकरण किया  जा रहा है। कोविशील्ड 80 फीसदी असरकारी है, जबकि कोवैक्सीन 81। रूसी वैक्सीन स्पुतनिक इन दोनों के मुकाबले ज्यादा असरकारी बताई जा रही है। इसकी कीमत भी 700 रुपये से कुछ अधिक रहेगी। 

हालांकि भारत में सरकार इन टीकों का मूल्य तय कर रही है, इसलिए हो सकता है यह इससे भी कम कीमत पर मुहैया कराई जाए। 

59 देश दे चुके हैं मंजूरी

स्पुतनिक-वी को अब तक 59 देश मंजूरी दे चुके हैं। इनमें संयुक्त अरब अमीरात (यूएई), बेलारूस, सर्बिया, बोलिविया, अर्जेंटीना, वेनेजुएला, फिलिस्तीन, अल्जीरिया, तुर्कमेनिस्तान और पैराग्वे शामिल हैं। 


Post a comment

[blogger]

MKRdezign

Contact form

Name

Email *

Message *

Powered by Blogger.
Javascript DisablePlease Enable Javascript To See All Widget