'लॉकडाउन की जरूरत नहीं'

modi

नई दिल्ली 

पीएम नरेंद्र मोदी ने गुरुवार को सभी राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों के मुख्यमंत्रियों के साथ समीक्षा बैठक के बाद एक तरफ लोगों से लापरवाही नहीं बरतने की अपील की तो राज्य सरकारों को टेस्टिंग बढ़ाने और कंटेनमेंट जोन के जरिए कोरोना को नियंत्रित करने की सलाह दी। पीएम मोदी ने यह भी ऐलान किया है कि 11 से 14 अप्रैल के बीच देश में टीका उत्सव मनाया जाएगा। उन्होंने इस दौरान राज्यों से 45 साल से अधिक उम्र के लोगों को टीका लगवाने को कहा। 

पीएम मोदी ने कोरोना के खिलाफ मुकाबले में नाईट कर्फ्यू के फायदे बता यह भी साफ कर दिया कि देश में संपूर्ण लॉकडाउन नहीं लगने जा रहा है। हां, लोग पहले से अधिक बेपरवाह हो गए हैं, कुछ राज्यों में प्रशासन शिथिलता बरत रहा है।

छोटे कंटेनमेंट जोन पर दें ध्यान

पीएम मोदी ने कहा, ''पिछले साल हमारे पास टेस्टिंग लैब, किट नहीं थे। उस समय केवल लॉकडाउन एक सहारा था। हमारी रणनीति काम आई। लॉकडाउन के समय का उपयोग करते हुए हमने अपनी क्षमता बढ़ाई और संसाधन विकसित किए। आज हमारे पास संसाधन हैं तो हमारा बल छोटे-छोटे कंटेनमेंट जोन पर होना चाहिए। हमें इसके परिणाम मिलेंगे। यह मेहनत रंग लाएगी।'' पीएम मोदी ने टेस्टिंग बढ़ाने पर जोर देते हुए कहा कि कंटेनमेंट जोन्स में सभी लोगों की टेस्टिंग की जाए।

नाइट कर्फ्यू अब कोरोना कर्फ्यू

जहां नाईट कर्फ्यू का इस्तेमाल हो रहा है, वहां मेरा आग्रह है कि कोरोना कर्फ्यू शब्द का इस्तेमाल करें। ताकि कोरोना के प्रति सजगता बनी रहे। कुछ लोग कहते हैं कि क्या कोरोना रात को ही आता है। दुनिया ने नाइट कर्फ्यू के प्रयोग को स्वीकार किया है। हर व्यक्ति को कर्फ्यू से याद आता है कि कोरोना काल में जी रहा हूं। और बाकी जीवन व्यवस्था पर कम असर होता है। अच्छा होगा कि हम कोरोना कर्फ्यू को रात 9 से 10 बजे से सुबह 5 बजे तक चलाएं, ताकि बाकी चीजों पर उसका कम से कम असर हो।''

पीएम मोदी ने यह साफ कर दिया कि अभी सभी उम्र के लोगों का टीकाकरण नहीं किया जाएगा। उन्होंने टीकों की सीमित उपलब्धता की ओर इशारा करते हुए कहा कि पहले 45 साल से अधिक उम्र के सभी लोगों को टीका लगाया जाए। पीएम मोदी ने 11 से 14 अप्रैल के बीच टीका उत्सव का ऐलान करते हुए कहा, ''11 अप्रैल, ज्योतिबा फुले जी की जन्म जयंती है और 14 अप्रैल, बाबा साहेब की जन्म जयंती है। उस बीच हम सभी ‘टीका उत्सव’ मनाएं।  हमारा प्रयास यही होना चाहिए कि इस टीका उत्सव में हम ज्यादा से ज्यादा लोगों को वैक्सीनेट करें। मैं देश के युवाओं से भी आग्रह करूंगा कि आप अपने आसपास जो भी व्यक्ति 45 साल के ऊपर के हैं, उन्हें वैक्सीन लगवाने में हर संभव मदद करें।''

प्रधानमंत्री ने कहा कि एक दिन में हम 40 लाख टीके के आकंड़े को पार कर चुके हैं। दुनियाभर के समृद्ध से समृद्ध देशों ने भी वैक्सीनेशन के लिए जो क्राइटेरिया बनाए हैं भारत उनसे अलग नहीं है। आप स्टडी तो कीजिए आप पढ़े-लिखे लोग हैं। नए वैक्सीन डिवेलपमेंट के लिए कोशिश हो रही है और उत्पादन बढ़ाने पर काम हो रहा है।

आज हम जितनी ज्यादा मांग वैक्सीन की करते हैं, इससे ज्यादा हमें टेस्टिंग पर बल देने की जरूरत है। टेस्टिंग और ट्रेकिंग की बहुत बड़ी भूमिका है। टेस्टिंग को हमें हल्के में नहीं लेना होगा। उन्होंने कहा कि कोविड मैनेजमेंट का एक बहुत बड़ा पार्ट वैक्सीन के वेस्टेज को रोकना भी है। आपको मालूम है कि इतनी वैक्सीन कैसे बनती हैं। ऐसा तो नहीं है कि इतनी बड़ी फैक्ट्रियां रातों रात बन जाती हैं। जो उपलब्ध हैं उसे हमें प्रायोरटाइज करना होगा। हमें पूरे देश को ख्याल में रखकर इसका मैनेजमेंट करना होगा। 


Post a comment

[blogger]

MKRdezign

Contact form

Name

Email *

Message *

Powered by Blogger.
Javascript DisablePlease Enable Javascript To See All Widget