रोजा तोड़कर इस शख्स ने बचाई कोरोना मरीजों की जान

akil mansoori

नई दिल्ली

एक ओर जहां क्रूर कोरोना के दर पर इंसानियत भी दम तोड़ दे रही है, वहीं दूसरी ओर कुछ ऐसे भी लोग हैं जो अपने धर्म और इबादत को दरकिनार कर मानवता का फर्ज निभा रहे हैं। कोरोना वायरस ने भारत समेत पूरी दुनिया के नाक में दम कर दिया है। चारों ओर लोग खुद को और अपनों को बचाने की जद्दोजहद में लगे हैं। मगर कुछ लोग अब भी ऐसे हैं जो धर्म की सीमाओं से परे इंसानियत का फर्ज निभा रहे हैं और दूसरों की जान बचा रहे हैं। राजस्थान के उदयपुर के रहने वाले अकील मंसूरी नामक शख्स ने रोजा तोड़कर मानवता धर्म को निभाया है और दो महिलाओं को प्लाज्मा डोनेट किया। दरअसल,  32 वर्षीय अकील मंसूरी पाक महीने रमजान में बुधवार को रोजा तोड़कर दो महिला कोरोना मरीजों को प्लाज्मा डोनेट किया। मंसूरी पिछले साल सितंबर में कोरोना वायरस से ठीक हुए थे। जब अकील को सोशल मीडिया के द्वारा पता चला कि 36 वर्षीय निर्मला और 30 वर्षीय अल्का को प्लाज्मा की जरूरत है तो वह तुरंत अस्पताल पहुंचे और खुद प्लाज्मा दान करने के लिए आगे आए। 

टीओआई की खबर के मुताबिक, उदयपुर के पेसिफिक हॉस्पिटल में निर्मला चार दिन से और अलका दो दिन से भर्ती थीं। दोनों महिलाओं को प्लाज्मा की जरूरत थी। सोशल मीडिया से जानकारी मिलने के बाद प्लाज्मा देने आए अकील जब अस्पताल पहुंचे तो यहां डॉक्टर उन्हें एंटीबॉडी टेस्ट के लिए ले गए और वहां उन्हें प्लाज्मा डोनेट करने के लिए बिल्कुल उपयुक्त पाया गया। 

Post a comment

[blogger]

MKRdezign

Contact form

Name

Email *

Message *

Powered by Blogger.
Javascript DisablePlease Enable Javascript To See All Widget