कोरोना : निर्णायक जंग का प्‍लान

प्रधानमंत्री मोदी ने वरिष्‍ठ अधिकारियों के साथ की हाई लेवल मीटिंग

modi

नई दिल्‍ली

देश के लगभग 15 राज्‍यों मंे बेलगाम  हो चुकी कोरोना महामारी पर लगाम लगाने के लिए राज्‍य सरकारों की तरफ से हो रही हरसंभव कोशिश के बावजूद नित नए केसों मंे हो रही बढ़ोत्तरी और मौतों के रिकार्ड को ध्‍वस्‍त कर रही इस बीमारी पर नियंत्रण के लिए केंद्र ने पहल शुरू कर दी है।  

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने शनिवार को कोविड-19 की स्थिति पर जनस्वास्थ्य की तैयारियों की समीक्षा की। प्रधानमंत्री कार्यालय के मुताबिक, पीएम मोदी की अध्यक्षता में COVID समीक्षा बैठक के दौरान दवाओं, ऑक्सीजन, वेंटिलेटर और टीकाकरण से संबंधित विभिन्न पहलुओं पर चर्चा की गई। उन्होंने कहा कि कोरोना रोगियों के लिए अस्पताल के बेड की उपलब्धता को बढ़ाने के लिए सभी आवश्यक उपाय किए जाने चाहिए।

पीएम मोदी ने यह भी निर्देश दिए कि अस्थायी अस्पतालों और आइसोलेशन सेंटर के माध्यम से बेड की अतिरिक्त आपूर्ति सुनिश्चित की जाए। प्रधानमंत्री ने विभिन्न दवाओं की बढ़ती मांग को पूरा करने के लिए भारत के दवा उद्योग की पूरी क्षमता का उपयोग करने की आवश्यकता के बारे में बात की।

कोविड-19 पर समीक्षा बैठक में प्रधानमंत्री मोदी ने कहा कि टीका उत्पादन के लिए देश में मौजूद पूरी क्षमता का इस्तेमाल करें। साथ ही उन्होंने यह भी कहा कि जांच, निगरानी और उपचार का कोई विकल्प नहीं है। 

प्रधानमंत्री की इस समीक्षा बैठक मंे विभिन्‍न विभागों के वरिष्‍ठ प्रशासनिक अधिकारियों ने हिस्‍सा लिया। बता दंे कि महाराष्‍ट्र, उत्तर प्रदेश, दिल्‍ली, गुजरात, मध्‍य प्रदेश, छत्तीसगढ़, पंजाब, हरियाणा, कर्नाटक जैसे राज्‍यों मंे कोरोना ने पिछले तीन दिनों से दो लाख का आंकड़ा पार करके दहशत मचा दी है। अस्‍पतालों मंे बढ़ती मरीजों की संख्‍या और ऑक्‍सीजन की मांग से सरकार परेशान दिख रही है। 

‘वैक्सीन की कमी नहीं’

देश में कोरोना वैक्सीन की किल्लत को लेकर केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री डॉ. हर्षवर्धन ने कहा कि टीके की कोई कमी नहीं है। उन्होंने कहा देश में शनिवार सुबह तक राज्यों को वैक्सीन की 14 करोड़ 15 लाख डोज़ सप्लाई की गई है, वेस्टेज को मिलाकर सब राज्यों ने लगभग 12,57,18,000 वैक्सीन की डोज़ का इस्तेमाल किया है।

वीडियो कॉफ्रेंसिंग के जरिए 11 राज्यों के स्वास्थ्य मंत्रियों के साथ कोरोना वायरस को लेकर बैठक में केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री ने कहा कि इस समय राज्यों के पास एक करोड़ 58 लाख डोज़ हैं और सप्लाई के अंदर वैक्सीन की 1,16,84,000 डोज़ हैं। वैक्सीन की कोई कमी नहीं है।

अब रेलवे परिसर में मास्क नहीं पहनने पर 500 जुर्माना

रेलवे परिसर और ट्रेनों में मास्क नहीं पहनने पर 500 रुपये तक का जुर्माना हो सकता है ,क्योंकि रेलवे ने अब इसे रेलवे अधिनियम के तहत अपराध के तौर पर शामिल किया है। यह जानकारी शनिवार को जारी एक आदेश से मिली। यह रेलवे द्वारा किया गया नवीनतम उपाय है। रेलवे ने वायरस के प्रसार को प्रतिबंधित करने के लिए स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मामलों के मंत्रालय द्वारा जारी किए गए विभिन्न कोरोना प्रोटोकॉल का अनुपालन सुनिश्चित करने के लिए इसे अपनाया है।


Post a comment

[blogger]

MKRdezign

Contact form

Name

Email *

Message *

Powered by Blogger.
Javascript DisablePlease Enable Javascript To See All Widget