...तो पुलिस कांस्टेबल से मांग लूंगा माफी : फड़नवीस

पूर्व पुलिस आयुक्त के आरोप का पत्र लिखकर दिया जवाब  ।  झूठा वीडियो और खबर चलाने वाले के खिलाफ करूंगा कानूनी कार्रवाई

fadanvis

मुंबई 

पूर्व मुख्यमंत्री और विपक्ष नेता देवेंद्र फड़नवीस ने के पूर्व पुलिस आयुक्त जुलिओ रिबेरो को पत्र लिखकर उनके द्वारा की गई टिप्पणी का जवाब दिया है। फड़नवीस ने कहा कि ब्रुक फार्मा कम्पनी के मालिक मामले में पुलिस स्टेशन जाकर अगर कुछ भी गलत किया है, तो उससे मैं पीछे नहीं हटूंगा और पुलिस कांस्टेबल से माफी मांगूंगा। पूर्व पुलिस आयुक्त द्वारा की गई देवेंद्र फड़नवीस के कार्यकाल की सराहना पर फड़नवीस ने कहा कि इसके लिए मैं आपका आभार प्रकट करता हूं और आपके ये शब्द भविष्य में भी मुझे प्रेरणा देते रहेंगे। मैं आपके प्रति अपना सम्मान व्यक्त करना चाहूंगा। कुछ मुद्दों को लेकर हमारे और आपके बीच मतभेद हो सकते हैं, लेकिन मैं हमेशा आपकी मुखरता और प्रतिबद्धता से प्रभावित रहा हूं। फड़नवीस ने कहा कि यह पत्र आपका  विरोध करने के लिए नहीं, बल्कि तथ्यों को सामने लाने के लिए लिख रहा हूं। फड़नवीस ने कहा कि रेमडेसिविरि को लेकर महाविकास आघाडी सरकार ने जो विपक्ष पर बार-बार झूठा आरोप लगाती है, उसकी सच्चाई सामने लाने के लिए यह पत्र लिख रहा हूं।

जनता के लिए खरीदा जा रहा था रेमडेसिविर

पूर्व पुलिस आयुक्त जुलिओ रिबेरो का जवाब देते हुए फड़नवीस ने कहा कि भाजपा अपने लिए नहीं, बल्कि राज्य की जनता के लिए  रेमडेसिविर खरीदने की योजना बना रही थी, जिसके लिए हमने और विधान परिषद के विपक्ष नेता दरेकर ने एफडीए आयुक्त और मंत्री को पत्र लिखा था। हमने केवल एफडीए और ब्रुक फार्मा के साथ समन्वय बैठाने का काम किया। इसके अलावा एफडीए से पत्र द्वारा हमने यह कहा था कि अगर रेमडेसिविर खरीदी को लेकर यदि प्रशासनिक स्तर पर कोई समस्या आ रही है,तो हम कम्पनी से खरीदी कर सरकार को देते हैं। दरेकर ने एफडीए मंत्री और कंपनी के साथ यही बातचीत की थी। इस संबंध में, एफडीए ने ब्रुक  कंपनी को एक आधिकारिक पत्र भी दिया था, जिसमें कहा गया था कि वह इसे केवल महाराष्ट्र को आपूर्ति करे। आधी रात को पार्टी के नेताओं के साथ पुलिस स्टेशन जाने पर फड़नवीस पर विपक्ष के साथ -साथ पूर्व पुलिस आयुक्त द्वारा उठाए गए सवाल पर विपक्ष नेता ने कहा कि मैं डीसीपी कार्यालय इसलिए गया था कि कंपनी के निदेशकों में से एक को मंत्री के ओएसडी ने फोन पर धमकी दी थी और कहा था कि विपक्ष के नेता को क्यों दिया जा रहा है रेमडेसिवीर । आपको सरकार के निर्देश पर ही भुगतान करना चाहिए। ओएसडी के फोन के बाद उसी दिन रात को आठ से 10 पुलिसकर्मी और एक अधिकारी ब्रुक फार्मा के मालिक के घर जाते हैं और उसे गिरफ्तार कर पुलिस स्टेशन लाते हैं, क्या यह उचित है जो कम्पनी नियम के तहत राज्य को रेमडेसिविर इंजेक्शन देने के लिए तैयार है। उसके साथ क्या ऐसा व्यवहार ठीक था। जुलिओ रिबेरो के जवाब में फड़नवीस द्वारा लिखे गए पत्र में कहा गया है कि  मैंने दो से तीन बार संयुक्त पुलिस आयुक्त को पूरी घटना बताई। इस बार मैंने पुलिस आयुक्त से भी संपर्क करने की कोशिश की, लेकिन उनका कोई जवाब नहीं मिला। जब मैंने कुछ  वरिष्ठ अधिकारियों से बात की, तो मालूम पड़ा कि यह एक योजनाबद्ध कार्रवाई थी जो  सरकार में कुछ मंत्रियों के इशारे पर किया गया था। फड़नवीस ने कहा कि यह मेरी नैतिक जिम्मेदारी थी कि मैं ऐसे व्यक्ति का उत्पीड़न न होने दूं, जो कानूनी रूप से महाराष्ट्र को बहुत आवश्यक दवा की आपूर्ति करने के लिए तैयार था। विपक्ष नेता ने सरकार पर आरोप लगाया कि हमने कभी नहीं सोचा था कि ऐसे  संकट के समय में हमारी ईमानदारी पर सवाल उठाते हुए राज्य सरकार  ऐसी राजनीति करेगी। इसके साथ  महाविकास आघाड़ी के साथ -साथ आप जैसी पार्टियों  के समर्थक झूठे और नकली वीडियो और खबरें बनाकर जो हमारे खिलाफ जो वीडियो वायरल किया है, मैं उनके खिलाफ कानूनी कार्रवाई करूंगा।


Labels:

Post a comment

[blogger]

MKRdezign

Contact form

Name

Email *

Message *

Powered by Blogger.
Javascript DisablePlease Enable Javascript To See All Widget