अब कोई लापरवाही न हो

मुंबई और राज्य में ब्रेक द चेन  अभियान का आज तीसरा दिन है परंतु इन तीन दिनों में कोरोना की भयावह रफ़्तार में कोई कमी नहीं दिखाई दे रही है। वैसे राज्य और मुंबई में अधिकांश लोग राज्य सरकार की इस संकट से उबरने की मु‌िहम का स्वागत कर रहे हैं और उसमें भरपूर सहयोग भी कर रहे हैं, लेकिन ऐसे लोग अभी भी दिख जा रहे हैं, जो अभी भी कोरोना से बचने के मापदंडों का सख्ती से अनुपालन नहीं कर रहे हैं। वे इस संकट की भयावहता का अंदाजा नहीं लगा पा रहे हैं। अभी भी लोकल में अनावश्यक लोगों के चलने की बातें सामने आ रही है। यह लोग दुहरा नुकसान करते प्रतीत हो रहे हैं। एक तो ये ब्रेक द चेन अभियान के हेतु को ही भोथरा कर रहे हैं और दूसरा आत्यावश्यक सेवा प्रदाता जो लोकल गाड़ियों से यात्रा रहे हैं उसके लिए भी खतरा बना रहे हैं। आवश्यक है कि ऐसे लोग अपनी नादानी से बाज आएं और ऐसा कुछ ना करें, जिससे यह अभियान और आगे बढ़ाना पड़े या कोरोना के मरीजों की संख्या में इजाफा हो। आज दवा की, ऑक्सीजन की, बेडों की कितनी मारामारी राज्य और मुंबई के कोने-कोने से सामने आ रही है, यह किसी से छिपा नहीं है। प्रशासन अपनी और से हर संभव कोशिश कर रहा है। कम से कम हम अपनी लापरवाही से उसमें इजाफा ना करें। अनिवार्य होने पर ही घर से बाहर निकलें और उस समय भी उन सभी एहतियातों का पालन करने, जिससे हम महामारी बढ़ाने का कारक ना बने। हम सबको कोरोना उपयुक्त व्यवहार करना है और हर वह सावधानी बरतनी है, जिससे यह कहर जल्दी से जल्दी हम सबके बीच से तिमिर तिरोहित हो। हमने बहुत लापरवाही की और जिसका प्रतिफल है कि यह दूसरी लहर पहली लहर से कहीं ज्यादा खतरनाक और व्यापक है। अब किसी भी तरह की ढिलाई और लापरवाही के लिए कोई जगह नहीं है। इसका एहसास रखते हुए हम अपने क्रियाकलाप संपादित करें।


Post a comment

[blogger]

MKRdezign

Contact form

Name

Email *

Message *

Powered by Blogger.
Javascript DisablePlease Enable Javascript To See All Widget