फिनटेक से बदल रहा है स्टॉक मार्केट का चेहरा


नई दिल्ली

फिनटेक का उभरना काफी हद तक पिछले दशक की कहानी रही है, जो इसे दुनिया में तकनीकी छलांग के लिए सबसे नए क्षेत्रों में से एक बना रही है। तकनीक आधारित स्टार्टअप के लिए उभरते हुए सेगमेंट के रूप में फिनटेक ने इस क्षेत्र में अविश्वसनीय इनोवेशन को सुर्खियों में ला दिया है। बैंकिंग से लेकर निवेश तक, इसने वित्तीय क्षेत्र में क्रांति ला दी है और अब यह निवेशकों के शेयर बाजारों में भाग लेने के तरीके को बदलने में महत्वपूर्ण भूमिका निभा रहा है।

कई फिनटेक कारोबार सामान्य निवेशकों को सेवाएं प्रदान करते हैं, जिसमें यूजर्स के अनुकूल, एआई-आधारित प्लेटफॉर्म शामिल हो सकता है जो निवेशक के लक्ष्यों और जोखिम सहने की क्षमता के अनुसार यूजर्स के एक्सचेंज-ट्रेडेड फंड (ईटीएफ) पोर्टफोलियो का प्रबंधन करता है। अन्य सेवाओं में कुछ ऐप मुफ्त बुनियादी स्टॉक ट्रेडिंग, रियल टाइम, प्रासंगिक, व्यक्तिगत वित्तीय समाचार और एक ऐसा प्लेटफॉर्म प्रदान करते हैं जहां निवेशक स्टॉक को बिना किसी  परेशानी के खरीद सकते हैं। यह कहना सुरक्षित होगा कि फिनटेक ने शेयर बाजार का काफी हद तक लोकतांत्रिकरण किया है। इस बारे में विस्तार से बता रहें हैं एंजल ब्रोकिंग लिमिटेड के चीफ ग्रोथ ऑफिसर प्रभाकर तिवारी। 

यह लोकतांत्रिक हो सकता है। इससे पहले रिटेल निवेशकों को या तो एक स्टॉक रिसर्च कंपनी की सदस्यता लेनी होती थी या नए ट्रेंड्स या आवश्यक डेटा हासिल करने के लिए स्टॉकब्रोकर को भुगतान करना होता था। पर फिनटेक के आने से अब इसकी जरूरत नहीं पड़ती। फिनटेक ने काफी कुछ बदल दिया है। फिनटेक रिटेल निवेशकों को एल्गोरिथम-आधारित सेवाओं को लेने की अनुमति देता है जो कि बाजार में बेहतर निवेश की भविष्यवाणी कर सकते हैं।


Labels:

Post a comment

[blogger]

MKRdezign

Contact form

Name

Email *

Message *

Powered by Blogger.
Javascript DisablePlease Enable Javascript To See All Widget