पार्टी कार्यालयों में बदली व्‍यवस्‍था

पटना

कोरोना के बढ़ते कहर को देखते हुए राजनीतिक दलों की गतिविधियां सीमित हो गई हैं। पार्टियों के प्रदेश मुख्यालयों में आम कार्यकर्ताओं की आवाजाही पर रोक लगा दी गई है। जरूरी बैठकें वर्चुअल मोड में आ गई हैं। रोज आने वाले पदाधिकारियों को भी कहा गया है कि जरूरी एहतियात बरतें। हमेशा मास्क लगाकर रहें। साथ में सैनिटाइजर भी रखें। भाजपा के प्रदेश कार्यालय में शनिवार को आम कार्यकर्ताओं की आवाजाही बेहद कम रही। प्रवक्ता अरविंद कुमार सिंह के मुताबिक पहले से निर्धारित तमाम बैठकें वर्चुअल मोड में होंगी। प्रदेश कार्यालय में कुछ नेताओं का आवास भी है। इन नेताओं के अलावा कुछ पदाधिकारियों को ही नियमित तौर पर कार्यालय आने की इजाजत मिली है। पदाधिकारियों को कहा गया है कि दफ्तर आने के बदले फोन पर ही जरूरी विमर्श कर लें। कार्यकर्ताओं को भी घर रहने को कहा गया है। राजद के प्रदेश कार्यालय में आम लोगों के आने जाने पर पाबंदी लगा दी गई है। प्रदेश अध्यक्ष जगदानंद शनिवार को कार्यालय नहीं आए। हालांकि सोमवार से वे नियमित रूप से कार्यालय में बैठेंगे। उनके अलावा पार्टी के कुछ उपाध्यक्ष और महासचिव कोरोना के प्रोटोकॉल का पालन करते हुए कार्यालय में बैठेंगे। उन्होंने कहा कि कोरोना संकट के जारी रहने तक नेताओं की जयंती-पुण्यतिथि पर समारोह आयोजित नहीं किए जाएंगे। तस्वीर पर माल्यार्पण कर औपचारिकता निभाई जाएगी। उन्होंने कहा कि कोरोना की दूसरी लहर पहले की तुलना में खतरनाक रुख अख्तियार कर रही है। एहतियात बेहद जरूरी है। जदयू के प्रदेश कार्यालय में बमुश्किल दर्जन भर पदाधिकारी पर्याप्त दूरी बनाकर दिन में बैठ रहे हैं। अधिक लोगों की जुटान वाली बैठकें नहीं हो रही है। 

पहले से निर्धारित बैठकें अब वर्चुअल मोड में होंगी। प्रदेश महासचिव डाॅ. नवीन आर्या ने बताया कि कार्यकर्ताओं को कहा गया कि वे बेवजह कार्यालय न आएं। कोरोना प्रोटोकॉल का पालन करें। दूसरों को भी महामारी से बचाव के बारे में जागरूक करें।


Labels:

Post a comment

[blogger]

MKRdezign

Contact form

Name

Email *

Message *

Powered by Blogger.
Javascript DisablePlease Enable Javascript To See All Widget