मुसलमानों को बना रहे बलि का बकरा

ओवैसी ने भी पीके को घेरा


कोलकाता

 तृणमूल कांग्रेस के चुनावी रणनीतिकार प्रशांत किशोर अपने लीक ऑडियो को लेकर चौतरफा घिर गए हैं। भारतीय जनता पार्टी के बाद अब ऑल इंडिया मजलिस ए इत्तेहादुल मुस्लिमीन (एआईएमआईएम) के प्रमुख असदुद्दीन ओवैसी ने भी निशाना साधा है। पीके की ओर से यह कहे जाने पर कि लेफ्ट, कांग्रेस और टीएमसी की ओर से 20 सालों तक मुस्लिम तुष्टिकरण किए जाने की वजह से ध्रुवीकरण और भाजपा को फायदा मिल रहा है, ओवैसी ने कहा कि ममता की विफलता के लिए मुसलमानों को बलि का बकरा बनाया जा रहा है।

हैदराबाद के सांसद ओवैसी ने लीक ऑडियो को साझा करते हुए ट्विटर पर लिखा, ''मशहूर चुनावी रणनीतिकार यहां तथ्य रहित दिमाग से बोल रहे हैं। उन्होंने (ममता) बहुसंख्यक सांप्रदायिकता को बंगाल में जड़ जमाने की अनुमित उन्होंने (ममता) कैसे दी, इस पर आत्ममंथन की बजाय वह (पीके) विफलता के लिए मुसलमानों को बलि का बकरा बना रहे हैं।'' 

ओवैसी ने कहा, ''राज्य में मुसलमानों की आबादी 27 फीसदी है, लेकिन केवल 6 फीसदी के पास सरकारी नौकरी है, उच्च शिक्षा में केवल 11 फीसदी छात्र हैं, ग्रामीण इलाकों में रहने वाले 80 फीसदी मुस्लिम पांच हजार रुपए के कम कमा रहे हैं। स्वास्थ्य के मामले में 6 सबसे पिछड़े जिलो में मुसलमानों की आबादी 25 फीसदी से अधिक है। लेकिन जेलों में उनकी हिस्सेदारी 37 फीसदी है।'' ओवैसी ने कहा, ''मालदा, मुर्शिदाबाद आदि में लोगों को आर्सेनिक मिला पानी पीना पड़ रहा है। यह 'तुष्टीकरण' का फल है। लेफ्ट के मुस्लिमों से खराब व्यवहार को कुंडु और सच्चर कमिटी ने दर्ज किया है। उनका फेमस लैंड रिफॉर्म मुसलमानों तक नहीं पहुंचा। उनमें से 3/4 भूमिहीन हैं।'' औवैसी ने एक अन्य ट्वीट में कहा, ''सच्चाई यह है कि टीएमसी और लेफ्ट के सबसे वफादार वोटर्स को दशकों तक अपमान के सिवा कुछ नहीं मिला। उनकी वफादारी के बदले ममता बनर्जी ने मुसलमानों को दूध देने वाली गाय मानती हैं। 

Post a comment

[blogger]

MKRdezign

Contact form

Name

Email *

Message *

Powered by Blogger.
Javascript DisablePlease Enable Javascript To See All Widget