डेंजर जोन में मुंबई

आम लोगों के लिए बंद होंगे लोकल के दरवाजे!

Local train

मॉल, थियेटर भी होंगे बंद

एक दिन छोड़ कर खुलेंगी दुकानें

मुंबई

कोरोना को कंट्रोल करने के लिए कठोर कदम उठाए जाने के बावजूद दिन प्रतिदिन मरीजों की संख्या में इजाफा हो रहा है। कोरोना के कारण मुंबई अब डैंजर जोन में पहुंच गई है। नाइट कर्फ्यू लगाने के बाद भी भीड़ पर नियंत्रित नहीं मिलने से अब और कठोर प्रतिबंध लगाया जाएगा। इस तरह के वक्तव्य महापौर किशोरी पेडणेकर ने  दिया, उन्होंने कहा कि आम जनता के लिए खोले गए लोकल के दरवाजे एक बार फिर बंद किए जाएंगे। वर्क फ्रॉम होम के लिए अधिक दबाव बनाया जाएगा। मॉल थियेटर और होटल पूरी तरह बंद करना जैसे अब कठोर कदम उठाने की जरूरत पड़ गई है। राज्य सरकार जल्द इस तरह का कठोर कदम उठाने का महापौर ने संकेत दिया।

महापौर ने कहा कि मुंबई में मरीजों की संख्या बढ़ कर रोजाना आठ  हजार  पार कर रही है। इसी तरह संख्या बढ़ती रही तो एक दिन में 10 से 12 हजार मरीज आ सकते हैं। नाईट कर्फ्यू के बाद भी दिन की भीड़ कम नहीं होना चिंता की बात है। कोरोना मरीजों के लिए जारी की नई गाइडलाइंन्स पर बोलते हुए पेंडणेकर ने कहा कि अब कठोर प्रतिबंध लगाने ही पड़ेंगे। 

 ऐसे लगेंगे नये प्रतिबंध

उन्होंने कहा कि कठोर प्रतिबंध के तहत होटलों में केवल 50 प्रतिशत उपस्थिति को सख्त बनाया जाएगा। धार्मिक स्थलों पर बुजुर्ग और छोटे बच्चे भी बड़ी संख्या में जा रहे हैं, उन्हें कोरोना संक्रमण होने का खतरा अधिक होता है। धार्मिक स्थलों को पूरी तरह बंद किया जाएगा। साथ ही थियेटर, मॉल भी बंद कर दिए जाएंगे। दुकानें एक दिन छोड़ कर एक दिन खुलेंगी। मुंबई में  31 मार्च को तीन हजार 900 बेड्स उपलब्ध थे। 324 आयसीयू व 170 वेंटिलेटर बेड उपलब्ध हैं। मरीजों की संख्या बढ़ रही है, इसलिए बेड की संख्या बढ़ा कर 16 हजार से 25 हजार किया जा रहा है।

मुंबई में लगातार बढ़ रहे

 हैं कोरोना के मामले

बता दें मुंबई में इस साल मार्च में कोविड-19 के 88,710 मामले सामने आए हैं, जो कि फरवरी में सामने आए कुल मामलों से 475 फीसदी ज्यादा है। बृहन्मुंबई महानगरपालिका (बीएमसी) ने यह जानकारी दी। इस साल शहर में फरवरी के महीने में 18,359 मामले सामने आए थे, वहीं जनवरी में यह आंकड़ा 16,328 था। इसका मतलब हुआ कि मार्च में मुंबई में पिछले महीने की तुलना में 70,351 ज्यादा मामले सामने आए। वहीं, जनवरी की तुलना में 72,382 ज्यादा मामले सामने आए। 


Labels:

Post a comment

[blogger]

MKRdezign

Contact form

Name

Email *

Message *

Powered by Blogger.
Javascript DisablePlease Enable Javascript To See All Widget