बिहार में कोरोना संक्रमण से भयावह हो रहे हालात

 ऑक्सीजन की भी किल्लत

पटना

लगातार बेकाबू हो रहे कोरोना संक्रमण से बिहार की स्थिति भयावह होती जा रही है और काफी तेजी से लोग काल के गाल में समा रहे हैं। महाराष्ट्र और दिल्ली की तरह बिहार में भी संक्रमण की रफ्तार बढ़ गई है। 24 घंटे में 10 हजार 455 नए मरीजों में कोरोना की पुष्टि हुई है, जबकि इस दौरान 51 लोगों की मौत हो गई। पटना के हालात काफी बिगड़ चुके हैं और जिला प्रशासन खुद असमंजस में है कि कहां-कहां कंटेनमेंट जोन बनाए जाएं।

पटना में सबसे अधिक 2186 नए मरीज मिले हैं। गया में 1081, मुजफ्फरपुर में 544, सारण में 530 समेत सभी जिलों में कई गुना मरीजों की संख्या में इजाफा हुआ है। मरीजों की संख्या बढ़ने के साथ-साथ चिंता इस बात की है कि रिकवरी रेट में भी तेजी से गिर रही है। बिहार में रिकवरी रेट घटकर 82.99 प्रतिशत तक पहुंच चुका है। स्वास्थ्य विभाग के निर्देश के बाद सैम्पलिंग भी बढ़ा दी गई है और 24 घंटे में 106156 मरीजों का टेस्ट किया गया है, जहां 10 हजार से ज्यादा पॉजिटिव मरीज मिले हैं। वहीं, 24 घंटे में महज 3577 लोग ही स्वस्थ हुए हैं, जो कि काफी खतरनाक संकेत है।

राज्य में एनएमसीएच समेत 3 मेडिकल कॉलेज को कोविड डेडिकेटेड अस्पताल में तब्दील कर दिया गया है। इसके बावजूद बेड की स्थिति सामान्य नहीं हुई है। ऑक्सीजन की किल्लत भी बरकरार है। सभी निजी अस्पतालों को डिमांड का 40 प्रतिशत ऑक्सीजन ही दिया जा रहा है, जिससे अस्पताल नए मरीजों को भर्ती नहीं ले रहा है। जिला प्रशासन की मानें तो 5200 से ज्यादा ऑक्सीजन सिलेंडर की आपूर्ति अस्पतालों में की गई है और तेजी से रिफलिंग का काम चल रहा है और जल्द ही स्थिति सामान्य हो जाएगी। ट्रैकिंग और ट्रेसिंग का काम भी तेजी से चल रहा है जो बाहर से आनेवाले श्रमिक हैं, उन पर खास नजर रखी जा रही है।


Labels:

Post a comment

[blogger]

MKRdezign

Contact form

Name

Email *

Message *

Powered by Blogger.
Javascript DisablePlease Enable Javascript To See All Widget