ऑनलाइन एफडी कराने के चक्कर में कहीं खाली न हो जाए खाता!

hacker

नई दिल्ली

भारत के सबसे बड़े सरकारी बैंक एसबीआई ने अपने ग्राहकों और आम जनता को सावधि जमा (एफडी) के रूप में निवेश के लिए ऑनलाइन धोखाधड़ी के बारे में चेतावनी दी है। बैंक ने कहा है कि ऑनलाइन एफडी में धोखाधड़ी को लेकर ग्राहकों की शिकायतें मिली हैं।

बैंक ने अपने ग्राहकों से अपने खाते तक साइबर ठगों की पहुंच को रोकने के लिए पासवर्ड/ओटीपी/सीवीवी/कार्ड नंबर आदि जैसे व्यक्तिगत डिटेल शेयर नहीं करने के लिए कहा है। साथ ही बैंक ने कहा कि बैंक कभी भी फोन, एसएमएस या मेल पर इन डिटेल्स के बारे नहीं पूछता है। एसबीआई ने ट्वीट के जरिये चेतावनी दी कि हमे रिपोर्ट मिली हैं कि जहां साइबर अपराधियों द्वारा ग्राहकों के खातों में ऑनलाइन एफडी तैयार किए जाने की सूचना है और ग्राहकों के साथ धोखाधड़ी की कोशिश हो रही है।

एसबीआई ने अपने खाताधारकों को यह संदेश देने के लिए सोशल मीडिया का सहारा लिया है। बैंक ने ट्वीटर पर इसकी जानकारी देते हुए कहा है कि इस नए तरह के साइबर धोखाधड़ी की सूचना मिली है, जहां धोखाधड़ी करने वाले पीड़ित के एफडी खाते का उपयोग पैसे निकालने के लिए कर रहे हैं। उल्लेखनीय है कि कोरोना काल में डिजिटल बैंकिंग काफी तेजी से बढ़ी है। इसके मद्देजनर रिजर्व बैंक सहित एसबीआई पहले भी ग्राहकों को चेतावनी जारी कर चुके हैं। पिछले साल नवंबर में भी एसबीआई ने साइबर धोखाधड़ी से बचने के लिए चेतावनी जारी करने के साथ कुछ जरूरी उपाय बताए थे।

ऐसे दे रहे जालसाजी को अंजाम

जालसाजों की कार्यप्रणाली के बारे में जानकारी देते हुए बैंक ने बैंक ने कहा है कि धोखाधड़ी करने वाले (स्कैमर्स) पहले अपने नेट बैंकिंग डिटेल के साथ भोले-भाले ग्राहकों के एफडी खाते बनाते हैं और कुछ राशि हस्तांतरित करते हैं और फिर वह इसका लाभ उठाते हैं। एसबीआई ने कहा है कि धोखाधड़ी करने वाले खुद को बैंक अधिकारी बताकर ग्राहक से ओटीपी मांगते हैं। इसके बाद ग्राहक यदि ओटीपी शेयर करता है तो एफडी राशि को अपने खाते में स्थानांतरित कर लेते हैं।


Labels:

Post a comment

[blogger]

MKRdezign

Contact form

Name

Email *

Message *

Powered by Blogger.
Javascript DisablePlease Enable Javascript To See All Widget