'डॉन' को लेने पहुंची UP पुलिस

mukhtar ansari

बांदा

माफिया विधायक मुख्तार अंसारी को पंजाब की रोपड़ जेल से उत्तर प्रदेश की बांदा जेल शिफ्ट करने के लिए सोमवार सुबह पुलिस टीम रवाना हुई जो आज पंजाब पहुंचेगी और डॉन को लेकर वापसी करेगी। मुख्तार अंसारी को आठ अप्रैल तक बांदा जेल में शिफ्ट किया जाना है। आठ को भोर पहर तक टीम उसे लेकर बांदा पहुंच सकती है। हालांकि, रूट चार्ट पूरी तरह गोपनीय रखा गया है। कयास है कि पंजाब पुलिस की भी एक टीम साथ में आएगी, जो मुख्तार अंसारी को बांदा मंडल कारागार प्रशासन के हवाले करेगी। पंजाब पुलिस ही बांदा जेल से उसे लेकर गई थी। इसलिए वह पूरे रूट से भी वाकिफ है। 

एक छोटा वज्र वाहन, एक एंबुलेंस, सीओ की एक बोलेरो, नीले रंग की सात पुलिस जीपें अलग-अलग दिशा से होकर निकलीं। काफिले में एक सीओ, दो इंस्पेक्टर, छह दारोगा, 20 हेड कांस्टेबल, 20 कांस्टेबल समेत करीब सौ लोग शामिल हैं। जिला अस्पताल की एक एंबुलेंस भी चिकित्सक और स्टाफ के साथ गई है। टीम में शामिल अधिकारियों के नाम पूरी तरह गोपनीय रखे गए हैं। सुरक्षा कारणों का हवाला देते हुए अधिकारियों ने कुछ भी बोलने से इनकार कर दिया है। टीम के आज सुबह तक पंजाब पहुंचने की संभावना है।

बैरक संख्या 15 ही हो सकती नया ठिकाना : माफिया मुख्तार अंसारी का नया ठिकाना बांदा जेल की बैरक संख्या 15 हो सकती है। मंडल कारागार में स्पेशल सेल बनाई गई है, जिसकी सुरक्षा बेहद कड़ी कर दी गई है।

कई दिन से तैयारियां चल रही थीं। रविवार की शाम आईजी के. सत्यनारायण अफसरों के साथ जेल का निरीक्षण करके प्रभारी जेलर पीके पांडेय से हर बिंदु पर जानकारी ले चुके हैं। यहां पर मुख्तार अंसारी को किसी तरह की वीआईपी सुविधा नहीं उपलब्ध कराई जाएगी। जेल के आस-पास के पेड़ों की छंटाई कर दी गई है।

 

एसओजी भी साथ, अत्याधुनिक असलहों से लैस है पुलिस टीम : सूत्र बताते हैं कि बांदा की स्पेशल ऑपरेशन ग्रुप (एसओजी) टीम भी साथ में है। पूरी टीम अत्याधुनिक असलहों से लैस है। स्वास्थ्य टीम में चिकित्सक, फार्मासिस्ट, पैरामेडिकल स्टाफ और जरूरी दवाएं भी ले जाई गई हैं।

जेल के मुख्य प्रवेश द्वार पर बनाए सुरक्षा मोर्चा, हुई किलाबंदी : माफिया मुख्तार को जेल में लाने से पहले मुख्य प्रवेश द्वार पर दो सुरक्षा मोर्चा बनाए जा रहे हैं। बांदा जेल के पुराने सीसीटीवी कैमरे दुरुस्त कर लिए गए हैं, जबकि कुछ जगह नए भी लगाए गए हैं। मुख्य प्रवेश द्वार को जंजीरों से जकड़ने के साथ ही अस्थायी सुरक्षा चौकियां पहले ही बनाई जा चुकी हैं। मंडल कारागार की किलाबंदी तकरीबन कर ली गई है। एक कंपनी पीएसी भी तैनात है।


Labels:

Post a comment

[blogger]

MKRdezign

Contact form

Name

Email *

Message *

Powered by Blogger.
Javascript DisablePlease Enable Javascript To See All Widget