ड्यूटी पर गैर हाजिर रहने वाले 1000 कर्मचारी बर्खास्त

प्रशासन को नई भर्ती करने के निर्देश


चंडीगढ़

नौकरी में परमानेंट करने को लेकर राष्ट्रीय स्वास्थ्य मिशन (एनएचएम) के कर्मचारियों द्वारा की जा रही हड़ताल भले ही खत्म हो गई हो, लेकिन कई जिलों में कर्मचारी कई दिनों से अपनी ड्यूटी पर वापस नहीं आए। जिस पर सख्त संज्ञान लेते हुए एनएचएम के एमडी कुमार राहुल ने सभी डिप्टी कमिश्नरों को पत्र लिखकर यह कह दिया है कि जो कर्मचारी ड्यूटी पर नहीं आए है, उन्हें बर्खास्त कर दिया जाए। ऐसे कर्मचारियों की संख्या लगभग 1000 हजार है। डिप्टी कमिश्नरों को कहा गया है कि ऐसे कर्मचारियों की जगह दूसरे कर्मचारियों को रखा जाए। कोरोना के बढ़ते केसों को देखते हुए पत्र में यह भी कहा गया है कि जरूरत के अनुसार अतिरिक्त कर्मचारी की भी भर्ती की जा सकती है। जिन्हें 1000 रुपये प्रति दिन के हिसाब से मानधन दिया जाएगा। बता दें कि कोरोना महामारी के दौरान एनएचएम और 776 कम्युनिटी स्वास्थ्य अधिकारियों (सीएचओ) हड़ताल पर थे। उनकी मुख्य मांग नियमित करने को लेकर थी। पंजाब के स्वास्थ्य केंद्रों के सीएचओ, एएनएम, डॉक्टरों और अन्य कर्मचारियों की एक हफ्ते से गैर-हाजिरी के कारण कोरोना काल में  खासी परेशानी आ रही थी, क्योंकि वह कोविड-19 के शक्की मरीजों के नमूने लेने, संपर्क ट्रेसिंग और इलाज संबंधी जिम्मेदारी निभा रहे थे। स्वास्थ्य मंत्री बलबीर सिद्धू ने रविवार को इन्हें अपनी हड़ताल खत्म करके वापस ड्यूटी पर आने की अपील की थी। उन्होंने यह भी कहा था कि यदि कर्मचारी हड़ताल खत्म नहीं करते तो उनके विरुद्ध आपदा प्रबंधन एक्ट के तहत कार्यवाही की जाएगी। सोमवार को नेशनल रूरल हेल्थ मिशन इम्पलाईज एसोसिएशन ने अपनी हड़ताल को खत्म कर दिया था। एसोसिएशन के प्रधान इंदरजीत सिंह राणा ने कहा कि सुबह ही हड़ताल खत्म कर दी गई थी। कर्मचारियों को काम पर लौटने के लिए कहा था। इसके बावजूद कई जगहों पर हड़ताल खत्म नहीं की गयी, और वह अपने काम पर वापस नहीं लौटे।


Post a Comment

[blogger]

MKRdezign

Contact Form

Name

Email *

Message *

Powered by Blogger.
Javascript DisablePlease Enable Javascript To See All Widget