कोरोना की लड़ाई में ‘लाइफलाइन’ बनी योगी सरकार की ‘108’ एंबुलेंस सेवा

लखनऊ

यूपी में कोरोना की दूसरी लहर से निपटने के लिए योगी सरकार की ‘108’ और ‘एएलएस’ एंबुलंेस सेवाओं ने बड़ी भूमिका निभाई है। सीएम योगी आदित्यनाथ ने वैश्विक महामारी से निपटने के लिए प्रदेश में दोनों 

एंबुलंेस सेवाओं को एलर्ट कर दिया था। सरकार की ओर से पूर्व से बरती गई सतर्कता का असर है कि कोरोना काल में संदिग्ध मरीजों के लिए यह दोनों सेवाएं ‘लाइफलाइन’ साबित हुई हैं। बड़ी संख्या में ग्रामीण और शहरी इलाकों में इनकी मदद से रोगियों को तत्काल नजदीकी अस्पतालों तक पहुंचाया गया है। 108 में ऑक्सीजन की सुविधा और एएलएस में ऑक्सीजन और वेंटिलेटर भी लगा है। गौरतलब है कि सतत निगरानी और कोविड प्रबंधन से कोरोना की पहली लहर पर विजय हासिल करने वाले मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने संक्रमण की दूसरी लहर में सामने आई चुनौतियों को भी बेहद गंभीरता से लिया। लगातार बढ़ते संक्रमण को देख खुद फ्रंटलाइन पर आए और ट्रेस, टेस्ट और ट्रीट के यूपी मॉडल को जमीन पर उतारते हुए अब दूसरी लहर पर भी काबू पाने में कामयाबी हासिल की है। 

कोरोना की दूसरी लहर की जंग को जीतने में योगी सरकार की एंबुलंेस सेवा भी बड़ी मददगार साबित हो रही है। 22 मार्च से अभी तक तीन महीनों में यूपी में 108 की 1102 और एडवांस लाइफ सपोर्ट (एएलएस) की 137 एंबुलंेस कोविड ड्यूटी में लगी हुई हैं। 108 एंबुलंेस सेवा ने 224832 लोगों को इलाज मुहैया कराने में मदद की है। जबकि एएलएस सेवा से 43206 लोगों को अस्पताल पहुंचाया है। इनमें लखनऊ में तैनात 108 की 32 एंबुलंेस मार्च माह से अभी तक 25337 लोगों को तत्काल इलाज की सुविधा दे चुकी है।जबकि एएलएस की 09 एम्बुलेंस राजधानी में लगाई गई है और तीन महीनों में 2042 लोग इसकी सेवाएं ले चुके हैं।


Labels:

Post a Comment

[blogger]

MKRdezign

Contact Form

Name

Email *

Message *

Powered by Blogger.
Javascript DisablePlease Enable Javascript To See All Widget