12 हजार 420 लोगों को भेजा गया सुरक्षित जगह

मुख्यमंत्री की परिस्थिति पर पैनी नजर | राज्य आपदा प्रबंधन प्राधिकरण की बैठक


मुंबई

तौकते चक्रवात को देखते हुए रत्नागिरी, सिंधुदुर्ग और रायगड जिले के 12 हजार 420 नागरिकों को सुरक्षित जगह पर भेजा गया। इस बात की जानकारी आपदा प्रबंधन विभाग ने दी। इधर मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे ने मुख्य सचिव सहित राहत और पुनर्वास सचिव से सागरी किनारे वाले जिलों की स्थिति की समीक्षा की। मुंबई, ठाणे और आसपास के इलाके के बारे में नियंत्रण कक्ष और पालिका आयुक्तों से जानकारी ली, साथ ही कोविड रोगियों के उपचार में कोई दिक्कत न आए, यह देखने के निर्देश दिए। सोमवार दोपहर को मुख्यमंत्री ने राज्य आपदा प्रबंधन प्राधिकरण की बैठक में स्थिति की समीक्षा की। रत्नागिरी जिले में तीन हजार 896, सिंधुदुर्ग जिले में 144 और रायगड जिले में आठ हजार 380  लोगों को सुरक्षित जगहों पर भेजा गया। मुंबई, ठाणे, पालघर जिले में ऑरेंज अलर्ट तथा रायगड जिले के लिए रेड अलर्ट जारी किया गया है।

उप मुख्यमंत्री ने किया नियंत्रण कक्ष का दौरा. तूफान से बचाव कार्य का लिया जायजा 

राज्य में आए तौकते चक्रवती तूफान से निपटने की तैयारियों को लेकर उप मुख्यमंत्री अजित पवार ने सोमवार को मंत्रालय जाकर नियंत्रण कक्ष का जायजा लिया। इस दौरान पवार ने समुद्री क्षेत्र के जिला अधिकारियों के साथ बातचीत की और प्रशासन को बचाव अभियान के लिए सतर्क रहने का निर्देश दिया। उप मुख्यमंत्री ने आपदा प्रबंधन एवं नियंत्रण कक्ष का भी दौरा किया। राज्य में तूफान की स्थिति, बचाव, नुकसान और राहत कार्यों की जानकारी ली. उप मुख्यमंत्री ने सिंधुदुर्ग, रत्नागिरी, रायगढ़, ठाणे, पालघर, मुंबई और मुंबई उपनगरीय जिला अधिकारियों के साथ मुंबई मनपा आयुक्त चहल को भी फोन कर बचाव और राहत कार्यों की जानकारी ली। आपदा प्रबंधन कक्ष के अधिकारियों ने उप मुख्यमंत्री को बताया कि तूफान से बचाव कार्यो को लेकर नियंत्रण कक्ष लगातार समुद्री तट जिला जिलाधिकारियों के संपर्क में है। राज्य में तूफान की स्थिति पर निगरानी रखी जा रही है। मुंबई, ठाणे और पालघर जिलों को ऑरेंज अलर्ट जारी किया गया है और रायगढ़ जिले को रेड अलर्ट जारी किया गया है। 


Labels:

Post a Comment

[blogger]

MKRdezign

Contact Form

Name

Email *

Message *

Powered by Blogger.
Javascript DisablePlease Enable Javascript To See All Widget