हजारों पेड़ों की बलि लेने के बाद खुली मनपा की नींद

कटाई और छंटाई के लिए अब ऐप एवं फोन पर अनुमति


मुंबई

चक्रवाती तूफान में दो हजार से अधिक पेड़ एवं उसकी टहनियों के गिरने के बाद अब मनपा प्रशासन की नींद खुलीहै। हर साल मानसून में पेड़ो के गिरने की घटनाएं होती है। अब इससे निपटने के लिए मनपा ने पेड़ो को काटने एवं छंटाई के लिए ऑनलाइन अनुमति देने का निर्णय लिया है। मनपा ने लॉकडाउन का हवाला देते हुए अब लोगों से घर बैठे पेड़ों की कटाई एवं छंटाई की ऑनलाइन अनुमति देने का निर्णय लिया है।मनपा ने लोगो से अपील की है कि वे मनपा की वेबसाइट portal.mcgm.gov.in और MCGM 24x7 पर संपर्क करने की एंड्रॉइड सुविधा उपलब्ध कराई है। इसी तरह सूखे एवं कीड़े मकोड़े से खराब हुए पेड़ों को तत्काल हटाने के लिए मनपा के 1916 हेल्पलाइन फोन नंबर पर संपर्क कर खतरनाक पेड़ों को हटाने के लिए सूचित किया जा सकता है। मनपा के 24 वार्ड में नियुक्त वृक्ष अधिकारी से सीधे संपर्क कर भी जर्जर हुए एवं सूखे पेड़ो की सूचना देकर पेड़ो को काटा जा सकता है। मनपा ने कहा है कि यह सुविधा लोगों की जान हानि न हो इसके लिए सुविधा उपलब्ध कराई है। मनपा अतिरिक्त आयुक्त, पूर्वी उपनगर प्रभारी अश्विनी भिड़े की अध्यक्षता में गार्डेन विभाग के अधिकारियों की हुई बैठक में सभी को निर्देश दिया गया कि मानसून पूर्व पेड़ो की तत्काल छटाई करा ली जाए। मनपा गार्डन विभाग के प्रमुख जितेंद्र परदेशी ने कहा कि जिन लोगों से पेड़ो की छटाई के लिए जानकारी आएगी उन पर टीम 24 घंटे में कार्रवाई करेगी।

मुंबई में 29 लाख 75 हजार 284 पेड़

वर्ष 2018 में हुई पेड़ों की जनगणना में मुंबई में कुल 29 लाख 75 हजार 283 पेड़ पाए गए थे। जिनमें से 15 लाख 63 हजार 701 पेड़ निजी प्रॉपर्टी में स्थित हैं। जबकि 11 लाख 25 हजार 182 पेड़ सराकरी संस्थानों की प्रॉपर्टी में है. इसके अलावा एक लाख 85 हजार 333 पेड़ सड़कों के किनारे पर लगे हुए हैं। जबकि एक लाख एक हजार 67 पेड़ विभिन्न गार्डेन में है।


Labels:

Post a Comment

[blogger]

MKRdezign

Contact Form

Name

Email *

Message *

Powered by Blogger.
Javascript DisablePlease Enable Javascript To See All Widget