सरकार हमसे है, हम सरकार से नहीं : पटोले

सरकार में शामिल तीनों दलों का मतभेद फिर आया सामने


मुंबई

राज्य में शिवसेना के नेतृत्व वाली राकांपा और कांग्रेस की महाविकास आघाडी सरकार में एक बार फिर आपसी मतभेद उभरकर सामने आया है। कांग्रेस प्रदेशाध्यक्ष नाना पटोले द्वारा एक इंटरव्यू में दिए गए बयान से ठाकरे सरकार में खलबली मच गई है। इसको लेकर सरकार में शामिल शिवसेना और राकांपा कांग्रेस पर हमलावर हो गई है। अपने बेबाक बयान के लिए मशहूर नाना पटोले ने सोमवार को महाविकास आघाडी सरकार में कांग्रेस की भूमिका बताते हुए अभिनेता राजकुमार के डायलॉग, 'जमाना हमसे है हम जमाने से नहीं' के अंदाज में कहा कि हम कई बार कह चुके है कि सरकार हमसे है हम सरकार से नहीं है। पटोले ने कहा कि शिवसेना और राकांपा के साथ गठबंधन को लेकर पार्टी के वरिष्ठ नेताओं ने भी यही बात कही है कि सरकार में हमारी ज्यादा भागीदारी नहीं है। लेकिन कोई भी निर्णय तीनों पार्टियों के आपसी सहमति से होनी चाहिए। पटोले ने कहा कि राज्य में कॉमन मिनिमम प्रोग्राम के तहत शिवसेना, राकांपा और कांग्रेस की महाविकास आघाडी सरकार स्थापित की गई है। जिसके आधार पर मुख्यमंत्री उध्दव ठाकरे और उपमुख्यमंत्री अजित पवार कांग्रेस के मंत्रियों के साथ मिलकर काम कर रहे है। बता दें कि साक्षात्कार के दौरान प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष से सरकार में कांग्रेस पार्टी की भूमिका को लेकर सवाल पूछा गया, जिसके जवाब में उन्होंने कहा कि सरकार हमसे है हम सरकार से नहीं। पटोले के इस बयान के बाद सरकार में शामिल शिवसेना और राकांपा ने अपनी नाराजगी व्यक्त की है। कांग्रेस की भूमिका पर पटोले द्वारा दिए गए बयान पर प्रतिक्रिया देते हुए शिवसेना सांसद और प्रवक्ता संजय राउत ने कहा कि कांग्रेस सरकार की सहयोगी दल है इसमें कोई आशंका नहीं है, यह बात पटोले को मालूम होनी चाहिए। राज्य में महाविकास आघाडी सरकार बनते समय ही कांग्रेस अध्यक्षा सोनिया गांधी, राहुल गांधी, प्रियंका गांधी, उद्धव ठाकरे और शरद पवार के बीच चर्चा हुई थी। जिसमे यह तय किया गया था कि तीनों पार्टी की मदद से ही सरकार चलेगी।


Labels:

Post a Comment

[blogger]

MKRdezign

Contact Form

Name

Email *

Message *

Powered by Blogger.
Javascript DisablePlease Enable Javascript To See All Widget