मुंबई में संक्रमण कम होने का आभासी चित्र: फड़नवीस

fadanvis

मुंबई

विधानसभा में विपक्ष के नेता देवेंद्र फड़नवीस ने मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे को लिखे पत्र में कहा कि मुंबई में कोविड से होने वाली मौतों के आंकड़े का सटीक खुलासा नहीं करने, टेस्टिंग में समझौता कर कोरोना संक्रमण कम होने की आभासी तस्वीर बनाई जा रही है। उन्होंने मांग की कि कोरोना के वास्तविक संकट को प्रकट किए बिना कोरोना के खिलाफ लड़ाई में बाधा डालने वाले ये प्रयास तत्काल रोके जाएं। मुख्यमंत्री को भेजे पत्र में फड़नवीस ने कहा कि विश्व स्वास्थ्य संगठन (डब्लूएचओ) और भारत के मामले में आईसीएमआर ने कोविड के रिकॉर्ड रखने के लिए निश्चित नियम बनाए हैं। इन नियमों के अनुसार कोविड की वजह से होने वाली प्रत्येक मौत को कोविड मृत्यु के रूप में रिपोर्ट किया जाना चाहिए। इसमें अपवाद के रूप में दुर्घटना, आत्महत्या, खून की वजह से हुई मौत या किसी विशेष मामलों में एकाध ब्रेनडेड रोगी अथवा चौथी स्टेज में कैंसर रोगी हैं। केवल ऐसी मौतों को अन्य कारणों की वजह से हुई मौत में पंजीकृत किया जाता है। मुंबई में मृत्युदर अथवा सीएफआर में कमी दिखाने के लिए कितने भयंकर प्रयास हो रहे हैं, यह स्पष्ट रूप से दिखाई देता है। शेष महाराष्ट्र में अन्य कारणों से मृत्यु दर 0.7 प्रतिशत है, जबकि मुंबई में कोरोना की दूसरी लहर के दौरान यह दर 39.4 प्रतिशत है। यहां तक कि पहली लहर में यह महाराष्ट्र के बाकी हिस्सों में 0.8 फीसदी और मुंबई में 12 फीसदी थी। मार्च 2020 से 30 अप्रैल 2021 के बीच मुंबई में अन्य कारणों से 1,593 मौतें हुईं, जो कुल मौतों का 12 प्रतिशत है। दूसरी लहर में 1 फरवरी से 30 अप्रैल 2021 के बीच 1773 में से 683 लोगों की मौत अन्य कारणों से हुई। यह अनुपात 39.4 फीसदी है। उन्होंने कहा कि कोरोना की दूसरी लहर में मुंबई में संक्रमण दर को कम करने के लिए मुंबई महानगरपालिका लगातार कोशिश कर रही है। मुंबई जैसे शहर में आरटी-पीसीआर परीक्षण की क्षमता कम से कम 1 लाख है, लेकिन पिछले 10 दिन में औसतन 34,191 परीक्षण किए जा रहे हैं। इसमें से भी 30 प्रतिशत रैपिड एंटीजन परीक्षण है। हालांकि आईसीएमआर ने वहां 30 प्रतिशत रैपिड एंटीजन परीक्षण को मंजूरी दी है, जहां आरटी-पीसीआर परीक्षण की पूरी क्षमता नहीं है। 


Labels:

Post a Comment

[blogger]

MKRdezign

Contact Form

Name

Email *

Message *

Powered by Blogger.
Javascript DisablePlease Enable Javascript To See All Widget