पूर्व एमएलसी का बेटा और आईएएस के रिश्तेदार ने रची थी साजिश

यूपी सहकारिता भर्ती घोटाला

लखनऊ

सहकारिता भर्ती घोटाले में एसआईटी की जांच में खुलासा हुआ है कि सपा के पूर्व एमएलसी का बेटा सुधीश कुमार और सपा शासनकाल में पंचम तल पर तैनात विशेष सचिव के रिश्तेदार राम प्रवेश ने ही पूरा षड्यंत्र रचा था। एसआईटी ने पूर्व एमएलसी के बेटे को घोटाले में नामजद भी किया है और जल्द ही आईएएस के रिश्तेदार की गिरफ्तारी होगी। खुलासा हुआ है कि सपा ही नहीं, बल्कि बसपा की पूर्ववर्ती सरकार में भी इसी गठजोड़ का बोलबाला था। नतीजतन, बसपा शासनकाल में भी इसी तर्ज पर फर्जीवाड़ा कर भर्तियां हुईं। भाजपा की पूर्ववर्ती सरकार में भी आरोप लगे, लेकिन जांचें नहीं हुईं।

एसआईटी ने भर्ती घोटाले में छह एफआईआर दर्ज की हैं। इनमें से ग्रामीण सहकारी बैंक में हुई भर्तियों में पूर्व एमएलसी (अब दिवंगत) का बेटा सुधीश कुमार यादव नामजद है। एसआईटी के मुताबिक इनके पिता सहकारिता विभाग से अपर निबंधक के पद से रिटायर हुए और बाद में समाजवादी पार्टी के खासे करीबी हो गए। उन्हें पिछली सरकार में समाजवादी पार्टी ने एमएलसी बनाया। एसआईटी के अधिकारियों का कहना है कि सभी भर्तियों के आदेश इन पूर्व एमएलसी की मनमर्जी पर ही अमल में लाए जाते थे। इन पूर्व एमएलसी के बेटे की भर्ती वर्ष 1984 में हुई थी। 

एसआईटी की जांच में खुलासा हुआ है कि पंचम तल पर तैनात एक पूर्व आईएएस जो सत्ता के खासे करीबी थे, अपने रिश्तेदार राम प्रवेश को ही भर्ती के लिए कंप्यूटर स्कैनिंग आदि के साथ परिणाम बनाने का काम दिलाते थे। उनके ही हुक्म पर वर्ष 2015 से 2017 के बीच अधीनस्थ सेवा चयन बोर्ड में भी धड़ल्ले से काम दिलाया गया। फिलहाल राम प्रवेश अभी जेल में है। उसे अधीनस्थ सेवा चयन आयोग में हुए भर्ती घोटाले में गिरफ्तार किया गया था। एसआईटी जल्द ही उसे रिमांड पर लेकर पूछताछ करेगी। एसआईटी के अधिकारियों का कहना है कि यही गठजोड़ इटावा, कन्नौज, आजमगढ़ आदि से मंत्रियों, अधिकारियों के नाते-रिश्तेदारों को भर्ती कराने के लिए संपर्क करता और मोटी रकम की वसूली की जाती। चूंकि राम प्रवेश तत्कालीन सरकार में खासा रसूख रखते थे और पंचम तल पर तैनात आईएएस से उनकी रिश्तेदार थी लिहाजा उनका ही दबदबा रहता था। सूची ऊपर से आती और अधिकारियों को उसे समायोजित करना पड़ा।


Labels:

Post a Comment

[blogger]

MKRdezign

Contact Form

Name

Email *

Message *

Powered by Blogger.
Javascript DisablePlease Enable Javascript To See All Widget