ताहिर हुसैन की जमानत याचिका खारिज


नई दिल्ली

दिल्ली की कड़कड़डूमा अदालत ने पिछले वर्ष हुई दिल्ली हिंसा से जुड़े एक मामले में आम आदमी पार्टी के पूर्व पार्षद ताहिर हुसैन की जमानत याचिका खारिज कर दी है। कोर्ट ने ताहिर हुसैन को दिल्ली हिंसा का किंगपिन (मास्टरमाइंड) बताते हुए उसकी जमानत खारिज कर दी। साथ ही कहा कि ताहिर हुसैन ने उत्तर-पूर्व दिल्ली में सांप्रदायिक हिंसा भड़काने के लिए अपनी ताकत और राजनीतिक पावर का दुरुपयोग किया। कोर्ट ने अपने आदेश में कहा है कि दंगाइयों को उकसाने के लिए ताहिर हुसैन मौके पर मौजूद था। यह बाते कोर्ट के सामने रखे गए तथ्यों के रिकॉर्ड में दर्ज है। अदालत ने यह भी कहा कि ताहिर हुसैन ने दंगाइयों को मानव हथियार के रूप में इस्तेमाल किया। कोर्ट ने अपनी टिप्पणी में कहा कि फरवरी 2020 के दिल्ली हिंसा भारत जैसे देश, जो एक सुपरपावर बनने की राह पर है, उसकी अंतरात्मा पर एक गहरा जख्म है। बता दें कि पिछले वर्ष 24 फरवरी को उत्तर-पूर्व दिल्ली में सीएए-एनआरसी के मुद्दे पर दो समुदायों के बीच जमकर हिंसा और उपद्रव हुआ था। तीन दिन तक यह पूरा इलाका हिंसा की आग में झुलसता रहा था। इस हिंसा में 53 लोगों की मौत हुई थी जबकि डेढ़ सौ से ज्यादा लोग घायल हुए थे। इस घटना के वक्त अमेरिका के तत्कालीन राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप भारत के दौरे पर आए हुए थे।


Post a Comment

[blogger]

MKRdezign

Contact Form

Name

Email *

Message *

Powered by Blogger.
Javascript DisablePlease Enable Javascript To See All Widget