भारत दूसरे देशों के दबाव में नहीं चलताः मोदी

सात साल से हो रहा है सबका साथ सबका विकास     हम जीतेंगे कोरोना से जंग


नई दिल्‍ली

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी रविवार सुबह 11 बजे अपने मासिक रेडियो कार्यक्रम ‘मन की बात’ को संबोधित किया। 77वें एपिसोड में पीएम मोदी ने कोविड-19 संकट पर मुख्‍य रूप से बात की। उन्‍होंने देश के कोने-कोने में ऑक्सिजन पहुंचाने वाले ‘कोरोना वारियर्स’ से बातचीत की। इसमें ऑक्सिजन टैंकर ड्राइवर और ऑक्सिजन एक्‍सप्रेस के लोको पायलट्स शामिल रहे। मोदी ने भारतीय वायुसेना के ग्रुप कैप्‍टन से भी बात की और उसके बाद उनकी बेटी का हालचाल भी लिया। कोविड-19 की टेस्टिंग में लैब टेक्‍नीशियन से उनका अनुभव जाना और इसके बाद कृषि क्षेत्र की सफलताएं गिनाने लगे।

पुराने विवाद शांति से सुलझाए गए

सरकार के 7 साल पूरे होने पर पीएम मोदी ने अपने संबोधन में कहा, “इन 7 सालों में भारत ने ‘डिजिटल लेन देन’ में दुनिया को नई दिशा दिखाने का काम किया है। आज किसी भी जगह जितनी आसानी से आप चुटकियों में डिजिटल पेमेंट कर देते हैं, वो कोरोना के इस समय में भी बहुत उपयोगी साबित हो रहा है। आज स्वच्छता के प्रति देशवासियों की गंभीरता और सतर्कता बढ़ रही है। हम रेकॉर्ड सैटेलाइट भी प्रक्षेपित कर रहे हैं और रेकॉर्ड सड़कें भी बना रहे हैं। इन 7 वर्षों में ही देश के अनेकों पुराने विवाद भी पूरी शांति और सौहार्द से सुलझाए गए हैं। पूर्वोतर से लेकर कश्मीर तक शांति और विकास का एक नया भरोसा जगा है।”

भाजपा सरकार के सात साल पूरे होने पर बोले मोदी

बतौर प्रधानमंत्री सात साल पूरे करने पर पीएम ने कहा, “30 मई को हम ‘मन की बात’ कर रहे हैं और संयोग से ये सरकार के 7 साल पूरे होने का भी समय है। इन वर्षों में देश ‘सबका-साथ, सबका-विकास, सबका-विश्वास’ के मंत्र पर चला है। देश की सेवा में हर क्षण समर्पित भाव से हम सभी ने काम किया है।” मोदी ने उपलब्धियां गिनाते हुए कहा, “जब हम ये देखते हैं कि अब भारत दूसरे देशों की सोच और उनके दबाव में नहीं, अपने संकल्प से चलता है, तो हम सबको गर्व होता है। जब हम देखते हैं कि अब भारत अपने खिलाफ साज़िश करने वालों को मुंहतोड़ ज़वाब देता है तो हमारा आत्मविश्वास और बढ़ता है। 

कोविड टेस्टिंग में लगे लैब टेक्‍नीशियन का अनुभव देश को सुनाया

पीएम ने कहा, “इस तरह की आपदा तो दुनिया पर सौ साल बाद आई है, एक शताब्दी के बाद इतना बड़ा संकट! इसलिए, इस तरह के काम का किसी के पास कोई भी अनुभव नहीं था। इसी से देश ने वो काम किया है जो पहले कभी नहीं हुआ। सामान्य दिनों में हमारे यहां एक दिन में 900 मीट्रिक टन ऑक्सिजन का उत्‍पादन होता था जो अब 10 गुना तक बढ़ गया है।” पीएम ने दिल्‍ली के लैब टेक्‍नीशियन प्रकाश कांडपाल से बात की। कांडपाल कोरोना टेस्‍ट करने वाली लैब में काम करते हैं। उन्‍होंने कहा कि ‘इस संघर्ष के दौर को निजी तौर मैं राष्‍ट्र, मानवता के प्रति हमारे अधिक योगदान की अपेक्षा के रूप में देखता हूं।


Post a Comment

[blogger]

MKRdezign

Contact Form

Name

Email *

Message *

Powered by Blogger.
Javascript DisablePlease Enable Javascript To See All Widget