सिर्फ जरूरी सामान बनाने में जुटीं एफएमसीजी कंपनियां


नई दिल्ली

रोजमर्रा उपभोक्ता उत्पाद बनाने वाली एफएमसीजी कंपनियां कोरोना की दूसरी लहर से राहत मिलता नहीं देख सिर्फ जरूरी समान ही बना रही हैं। कंपनियों का जोर वैसे उत्पाद का अधिक से अधिक उत्पादन करने पर है, जिनकी मांग बाजार में सबसे अधिक है। बाजार की मांग को पूरा करने के लिए कंपनियां बड़े पैक का इस्तेमाल कर रही हैं। कंपनियों ने यह तैयारी राज्यों द्वारा लॉकडाउन और नाइट कर्फ्यू की समयसीमा बढ़ाने को देखते हुए किया है। मारिको लिमिटेड के प्रबंध निदेशक और मुख्य कार्यकारी अधिकारी, सौगत गुप्ता ने बताया कि पिछले साल की महामारी से सीख लेते हुए हम इस साल स्टॉक में रखने वाली इकाइयों का उत्पादन बिना राजस्व में गिरावट के 26 फीसदी कम कर दी है। उसके जगह पर अपने पोर्टफोलियो में 90 फीसदी वहीं उत्पाद शामिल किए हैं, जिसकी मांग सबसे अधिक है। कंपनियों का कहना है कि वे सौंदर्य प्रसाधान से जुड़े उत्पादों का उत्पाद अभी नहीं कर रहे हैं। इसकी वजह यह है कि उपभोक्ताओं ने क्रीम, सौंदर्य प्रसाधान आदि का इस्तेमाल कम कर दिया है। दूसरी लहर के बीच डेयरी उत्पाद बनाने वाली कंपनी अमूल भी एफएमसीजी कंपनियों की रणनीति पर चलने का फैसला किया है। कंपनी ने बताया कि हमने स्टॉक करने वाले उत्पाद का उत्पादन घटा दिया है और जिनकी मांग अधिक है उनका उत्पादन तेजी से कर रहे हैं। कंपनी का कहना है कि उपोक्ता सिर्फ जरूरी सामान की खरीदारी कर रहे हैं।


Labels:

Post a Comment

[blogger]

MKRdezign

Contact Form

Name

Email *

Message *

Powered by Blogger.
Javascript DisablePlease Enable Javascript To See All Widget