सेहत के लिए फायदेमंद है मटके का पानी


गर्मी के मौसम में ज्यादातर लोग ठंडा पानी पसंद करते हैं। इस मौसम में शरीर को ठंडक पहुंचाने के लिए ज्यादातर लोग फ्रिज का पानी पीना शुरू कर देते हैं। लेकिन क्या आप जानते हैं कि फ्रिज का पानी पीना सेहत के लिए हानिकारक होता है। इतना ही नहीं हेल्थ एक्सपर्ट्स भी गर्मियों में एकदम ठंडा पानी पीने से मना करते हैं। फ्रिज का पानी पीने से सर्दी, जुकाम, गले में खराश की समस्याएं बढ़ जाती है। ऐसे में गर्मी से बचने के लिए मटके का पानी पी सकते हैं। इस पानी को पीने से कोई नुकसान नहीं होता है।

आयुर्वेद में भी मिट्टी के बर्तन में पानी रखना सेहत के लिए फायदमेंद माना गया है। इससे आप कई तरह की बीमारियों से बचे रहते हैं। मटके में पानी प्राकृतिक रूप से ठंडा होता है। इसमें मौजूद रूम छिद्र पानी को भाप के रूप में बाहर निकलाते है और मटके के पानी को ठंडा रखता है। आइए जानते हैं मटके में रखा पानी पीना सेहत के लिए फायदेमंद और सुरक्षित है।

मेटाबॉल्जिम बढ़ाता है

प्लास्टिक के बर्तन में पानी जमा करना सेहत के लिए हानिकारक होता है। प्लास्टिक में बीपीए जैसे हानिकारक केमिकल होते हैं जो एंडोक्राइन के लिए हानिकारक होता है। लेकिन मटके के पानी में किसी तरह का कोई केमिकल नहीं होता है। पानी में मौजूद मिनरल्स पाचन तंत्र को सुधारने में मदद करते हैं। इसके अलावा कई गंभीर बीमारियों से छुटकारा दिलाने में मदद करता है।

गले के लिए फायदेमंद होता है

गर्मी से संबंधित बीमारियों में खुद को बचाने के लिए मटके के पानी से बेहतर क्या होगा। फ्रिज का पानी पीने से गले की कोशिकाओं को नुकसान पहुंचता है। वहीं घड़े का पानी पीने से कोई गलत प्रभाव नहीं पड़ता है। मिट्टी के बर्तन में रखें पानी को पीने से गले को आराम मिलता है।

एसिडिटी की समस्या नहीं होती है

मटके के पानी में किसी तरह का कोई केमिकल नहीं होता है जो शरीर के पीएच को बैलेस करने में मदद करता है। जिससे गैस और एसिडिटी संबंधी समस्याएं दूर होती है।

हीट स्ट्रोक से बचाता है

मिट्टी के बर्तन में रखें पानी में विटामिन्स और मिनरल्स की भरपूर मात्रा होती है जो शरीर में ग्लूकोज के लेवल को बढ़ाने में मदद करता है। इसकी वजह से आपका शरीर को ठंडक मिलती है। गर्मी में हीट स्ट्रोक और डिहाइड्रेशन की समस्या नहीं होती है।

इम्युनिटी बढ़ाता है

मटके में रखे पानी को पीने से आपकी इम्युनिटी बढ़ती है। इससे शरीर में टेस्ट्रोरोन का लेवल बढ़ता है। वहीं प्लास्टिक को बोतल में रखे पानी में अशुद्धियां होती है, जो आपके लिए नुकसानदायक हो सकता है।


Post a Comment

[blogger]

MKRdezign

Contact Form

Name

Email *

Message *

Powered by Blogger.
Javascript DisablePlease Enable Javascript To See All Widget