तूफान के रौद्र रूप ने बरपाया कहर

कर्नाटक, केरल, गोवा, महाराष्ट्र में जानमाल के नुकसान के बाद गुजरात में भी तूफानी दस्तक

cyclone

मुंबई

चक्रवाती तूफान तौकाते ने सोमवार को मुंबई और उसके आस-पास के इलाकों में जमकर कहर बरपाया। तूफान के रास्ते में जो कुछ भी आता गया, उसने उसे अपनी चपेट में ले लिया। यह तूफान का ही असर था कि मुंबई में जोरदार बारिश हुई और जगह-जगह पेड़ भी उखड़ गए। चक्रवाती तूफान महाराष्ट्र के बाद गुजरात पहुंच गया जहां उसने तबाही मचाना शुरू कर दिया है। देर रात सीएम रुपाणी खुद कंट्रोल रूम में बैठकर स्थिति का अवलोकन कर रहे थे। अहमदाबाद और अन्‍य इलाकों में जोरदार बारिश शुरू थी।

वहीं केरल, कर्नाटक और गोवा में भी तूफान की वजह से कई लोगों की जान जा चुकी है। 

महाराष्ट्र में भी जानमाल के नुकसान की खबर हैं, अधिकारियों ने जानकारी दी कि तौकते तूफान की वजह से मुंबई की लोकल ट्रेनें भी प्रभावित हुई हैं। मुंबई में 114 किलोमीटर प्रति घंटे की रफ्तार से आंधी चली। समाचार लिखे जाने तक मुंबई और उसके आस-पास के इलाकों में खूब वर्षा हो रही है एवं तेज आंधी चल रही है।

बीएमसी अधिकारियों के मुताबिक रविवार सुबह से मुंबई में पेड़ गिरने की कई घटनाएं सामने आयी हैं, लेकिन किसी की जान जाने की कोई सूचना नहीं है। बीएमसी संचालित बृहन्मुंबई विद्युत आपूर्ति एवं परिवहन (बीईएसटी) उपक्रम ने आपदा प्रबंधन के लिए नियंत्रण कक्षों समेत विभिन्न स्थलों पर अपनी परिवहन एवं विद्युत शाखाओं के अधिकारियों को तैनात किया था। बीएमसी के अनुसार राष्ट्रीय आपदा मोचन बल और भारतीय नौसेना अपनी तैयारियों को लेकर पूरी तरह मुस्तैद रहें। महाराष्ट्र के कोंकण क्षेत्र में भीषण चक्रवाती तूफान ‘ताउते’ से जुड़ी अलग-अलग घटनाओं में छह लोगों की मौत हो गई, वहीं तीन नाविक लापता हैं। अधिकारियों ने सोमवार को बताया कि जिन लोगों की मृत्यु हुई, उनमें से तीन रायगढ़, एक सिंधुदुर्ग औक दो लोगों की मौत नवी मुंबई व उल्हासनगर में उन पर पेड़ गिर जाने से हो गई। एक सरकारी बयान के अनुसार सिंधुदुर्ग जिले में आनंदवाड़ी हार्बर पर खड़ीं दो नौकाएं डूब गईं। मुंबई महानगर में मूसलाधार बारिश और तेज हवाओं के चलते अफरा तफरी का माहौल रहा। 

देर रात तक हवाई सेवाएं निलंबित रहीं साथ ही सड़क यातायात, ट्रेन यातायात भी प्रभावित रहा। लोग आवश्‍यक कार्यवश ही घर से बाहर निकलें इसके बावजूद उन्‍हें काफी मशक्‍कत उठानी पड़ी।

तूफान के चलते ट्रेन सेवाएं भी हुईं प्रभावित

चूनाभट्टी और गुरु तेज बहादुर स्टेशनों के बीच करीब पौने बारह बजे रेललाइन के तार पर एक विनायल बैनर गिर जाने से हार्बर लाइन पर भी ट्रेन सेवाएं बाधित हुईं। आधे घंटे के बाद इस बैनर को हटाया गया और ट्रेन सेवाएं बहाल हुईं। हार्बर लाइन नवी मुंबई को रेल संपर्क प्रदान करती है। छत्रपति शिवाजी महाराज टर्मिनस पर उपनगरीय एवं मुख्य लाइनों के बीच यात्री क्षेत्र की प्लास्टिक की छत तेज हवा के चलते उड़ गयी। आनन-फानन में रेलवे कर्मियों ने उसे सही किया। आगामी मानसून सत्र के लिए तैयारी के तहत नालों की सफाई के मनपा के दावे के बावजूद शहर के कई निचले इलाकों में जलजमाव हो गया। मुंबई पुलिस ने हिंदमाता जंक्शन, अंधेरी सबवे और मलाड सबवे समेत छह निचले इलाकों में जलभराव हो जाने के बारे में ट्वीट किया। एक व्यक्ति ने ट्वीट किया कि दहिसर में टीकाकरण के लिए खड़े किये गये अस्थायी पंडाल को भारी वर्षा एवं तीव्र हवा के चलते आंशिक नुकसान पहुंचा।

 लेकिन बीएमसी अधिकरियों ने इसकी पुष्टि नहीं की है।


Post a Comment

[blogger]

MKRdezign

Contact Form

Name

Email *

Message *

Powered by Blogger.
Javascript DisablePlease Enable Javascript To See All Widget