बांदा जेल में मुख्तार अंसारी को मिला कूलर और मच्छरदानी

फर्जी असलहा मामले में अगली पेशी 21 मई को

मऊ

 बांदा जेल से सदर विधायक मुख्तार अंसारी की फर्जी लाइसेंस असलहा मामले में पेशी पर अदालत में आई रिपोर्ट के अनुसार जेल में एअर कूलर व मच्छरदानी उपलब्ध करा दी गई है। जबकि हार्ड बेड के रूप में सीमेंटेड चबूतरा व बिस्तर आदि पहले से उपलब्ध है। जेल आख्या के अनुसार बेड केवल जेल अस्पताल व उच्चतर श्रेणी कैदी को ही जेल मैनुअल के अनुसार दिया जाता है।

बुधवार को वीडियो कांफ्रेंसिंग से पेशी के दौरान अदालत ने मुख्तार अंसारी से इस बाबत पूछताछ की। अंसारी ने बताया कि मच्छरदानी कूलर मिल गया है, बेड नहीं मिला है और ना ही थिरेपी कराई जा रही है, जबकि मेडिकल बोर्ड की रिपोर्ट के आधार पर सुप्रीम कोर्ट का आदेश है। इस पर अदालत ने आदेश व रिपोर्ट अदालत में तलब कर लिया है। अगली पेशी 21 मई को होगी। सदर विधायक के अधिवक्ता दारोगा सिंह के आनलाइन आवेदन पर 11 अप्रैल को प्रभारी मुख्य न्यायिक मजिस्ट्रेट ने जेल अधीक्षक बांदा को आदेशित किया था कि डाक्टर की सलाह व जेल मैनुअल के अनुसार बंदी को हार्ड बेड, कूलर व मच्छरदानी जेल प्रशासन उपलब्ध कराए। मुख्तार अंसारी की तरफ से उनके अधिवक्ता दारोगा सिंह ने आनलाइन आवेदन में यह उल्लेख किया था कि विधायक ब्लड प्रेशर, सूगर, हाइपरटेशन व कमर दर्द से काफी परेशान हैं और बांदा जेल में काफी गर्मी है। 

जेल में डाक्टरों की टीम ने उन्हें तख्त या कडा बेड व कूलर, मच्छरदानी के उपयोग करने की सलाह दी है। इस पर अदालत ने जेल अधीक्षक को आदेशित किया था। जेल अधीक्षक ने अदालत के आदेश के क्रियान्वयन के संदर्भ में विस्तृत रिपोर्ट भेजी है। इस मामले में 19 मई बुधवार को पेशी निर्धारित थी। वीडियो कांफ्रेसिंग से प्रभारी सीजेएम संतोष कुमार वर्मा ने बांदा जेल से मुख्तार अंसारी की पेशी की तथा अगली पेशी के लिए 21 मई की तारीख नियत कर दी है। सदर विधायक मुख्तार अंसारी ने अपने लेटर पैड पर अपने करीबी आधा दर्जन लोगों को असलहा लाइसेंस के लिए डीएम से सिफारिश की थी जिनका पता दक्षिणटोला थाना क्षेत्र का था, जो जांचोपरांत फर्जी पाया गया।


Labels:

Post a Comment

[blogger]

MKRdezign

Contact Form

Name

Email *

Message *

Powered by Blogger.
Javascript DisablePlease Enable Javascript To See All Widget