देश में आ रही चार नई वैक्सीन

प्रतिदिन एक करोड़ लोगों को टीका लगाने की तैयारी


नई दिल्ली

देश में जल्द ही कोरोना की चार और नई वैक्सीन उपलब्ध हो जाएंगी। नीति आयोग के सदस्य (स्वास्थ्य) डॉक्टर वीके पॉल ने बताया कि देश में वैक्सीन का उत्पादन लगातार बढ़ाया जा रहा है। आगे चार और वैक्सीन आने वाली हैं। इनमें बायो- ई की वैक्सीन, जायडस की डीएनए पर आधारित वैक्सीन, भारत बायोटेक की नेसल वैक्सीन और जिनेवा की वैक्सीन उपलब्ध होंगी। उन्होंने बताया कि 2021 के आखिर तक देश में वैक्सीन की 200 करोड़ डोज का उत्पादन हो चुका होगा। डॉक्टर पॉल ने बताया कि सरकार कोविड सुरक्षा स्कीम के तहत जायडस कैडिला, बायो ई और जिनेवा की कोरोना वैक्सीन के देश में निर्माण के लिए फंडिंग कर रही है। इसके अलावा नैशनल लैब्स से उन्हें टेक्निकल सपोर्ट भी दिया जा रहा है।

'साल के आखिर तक देश में वैक्सीन की 200 करोड़ डोज का उत्पादन'

वैक्सीन प्रोडक्शन को लगातार बढ़ाने के लिए की जा रही कोशिशों का जिक्र करते हुए डॉक्टर पॉल ने कहा कि सीरम इंस्टिट्यूट ऑफ इंडिया भी अपनी क्षमता को 6.5 करोड़ डोज प्रति महीने से बढ़ाकर 11 करोड़ डोज तक बढ़ा रही है। उन्होंने कहा कि सरकार की कोशिशों की बदौलत 2021 के आखिर तक देश में वैक्सीन की 200 करोड़ डोज के उत्पादन का अनुमान है।

अक्टूबर तक कोवैक्सीन की हर महीने 10 करोड़ डोज बनाएगी भारत बायोटेक

पॉल ने बताया कि भारत बायोटेक की वैक्सीन निर्माण क्षमता बढ़ाई जा रही है। जल्द ही 3 अन्य कंपनियां भी कोवैक्सीन का निर्माण करेंगी। इसके अलावा बायोटेक के अपने प्लांट्स की क्षमताएं भी बढ़ाई जा रही हैं। इस तरह चार कंपनियों में कोवैक्सीन का प्रोडक्शन होगा। पॉल ने कहा कि इसके अलावा तीन पब्लिक सेक्टर यूनिट्स मिलकर दिसंबर तक चार करोड़ डोज के उत्पादन करेंगी। उन्होंने कहा कि सरकार की कोशिश है कि प्रतिदिन एक करोड़ टीकाकरण हो सके। देश में वैक्सीन को लेकर हाय तौबा मची है। सरकार जहां एक तरफ वैक्सीन के प्रबंध में दिन रात एक किए हुए है, वहीं दूसरी तरफ विपक्षी पार्टियां वैक्सीन की कमी को लेकर खूब सियासत कर रही हैं। फिलहाल देश में 20 करोड़ से अधिक डोज लगाए जा चुके हैं। लेकिन महज तीन फीसदी आबादी को दोनों डोज लगे हैं।

फाइजर भारत को वैक्सीन देने को तैयार

अमेरिकी कंपनी फाइजर ने केंद्र सरकार से कहा कि उसकी वैक्सीन 12 साल और इससे ज्यादा उम्र के सभी लोगों के लिए सुरक्षित और बेहद असरदार है। कंपनी ने दावा किया कि यह वैक्सीन सबसे पहले भारत में मिले कोरोना के स्ट्रेन पर भी काफी हद तक प्रभावी है। कंपनी ने बताया कि वैक्सीन को 2-8 डिग्री तापमान पर एक महीने तक स्टोर किया जा सकता है। फाइजर जुलाई से अक्टूबर 2021 के बीच भारत को वैक्सीन के पांच करोड़ डोज देने के लिए तैयार है। हालांकि, इसके लिए उसने सरकार से नुकसान होने पर हर्जाना समेत कुछ अन्य छूट मांगी है।


Post a Comment

[blogger]

MKRdezign

Contact Form

Name

Email *

Message *

Powered by Blogger.
Javascript DisablePlease Enable Javascript To See All Widget