‘तौकते’ ने दिखाई ताकत

cyclone

मुंबई/बेंगलुरु/पणजी

अरब सागर से उठा चक्रवाती तूफान तौकते विकराल होकर गुजरात तट की ओर बढ़ रहा है। यह गुजरात के साथ ही केंद्रशासित प्रदेश ‘दमन एवं दीव और दादरा एवं नगर हवेली’ में भी कहर बरपा सकता है। तूफान के चलते महाराष्ट्र के तटीय इलाकों में भारी बारिश की आशंका है, जबकि केरल और तमिलनाडु में बाढ़ का खतरा पैदा हो गया है। कर्नाटक के तटीय इलाकों से लेकर गोवा तक बारिश और तेज हवाओं से बड़े नुकसान की खबर है। कर्नाटक में वर्षाजनित हादसों में चार तथा गोवा में दो लोगों की मौत हो गई है।  

आज शाम तक गुजरात तट पर पहुंचने की संभावना

भारत मौसम विज्ञान विभाग के मुताबिक तौकते तूफान के उत्तर-पश्चिम की ओर बढ़ने और सोमवार की शाम तक गुजरात तट पर पहुंचने की प्रबल संभावना है। यह मंगलवार को तड़के गुजरात के तटीय जिलों पोरबंदर, भावनगर, अम्रेली और जूनागढ़ के तट से टकराएगा। मंगलवार (18 मई) तक हवा की गति 150-160 किलोमीटर प्रति घंटे तक बढ़ने के आसार हैं, जबकि इस दौरान कुछ समय के लिए हवा की गति 165 किमी प्रति घंटे को भी पार कर सकती है। दक्षिण महाराष्ट्र और गोवा तथा इससे सटे हुए कर्नाटक के तटीय इलाकों में हवा की गति 70 से 90 किमी प्रति घंटे तक हो सकती है। हवा की गति महाराष्ट्र के तट पर सोमवार से मंगलवार की सुबह तक 65-85 किमी प्रति घंटे तक हो सकती है। जूनागढ़ के तटीय इलाकों में तीन मीटर ऊंची लहरें उठ सकती हैं।

महाराष्ट्र में बारिश से नहीं, तेज हवाओं से नुकसान की आशंका

मुंबई शहर के निचले इलाकों में स्थित विभिन्न अस्पतालों से 580 कोरोना मरीजों को बृहन्मुंबई नगर निगम (बीएमसी) के अन्य अस्पतालों में शिफ्ट किया गया है। इनमें बांद्रा-कुर्ला-कांप्लेक्स कोविड केयर सेंटर के 243, दहिसर के 183 और मुलुंड के 154 कोरोन मरीज शामिल हैं। तौकते से बचाव के लिए मनपा ने बड़े पैमाने पर इंतजाम किये हैं। शहर की सभी छह चौपाटियों पर आपदा प्रबंधन की टीम तैनात कर दी गई हैं। सुरक्षा के मद्देनजर बांद्रा-वर्ली सी लिंक रोड को बंद कर दिया गया है। गोवा के कई हिस्सों में तेज हवाएं चल रही हैं और भारी बारिश हो रही है। इसकी वजह से बिजली के सैकड़ों खंभे उखड़ गए और कई इलाकों में बिजली आपूर्ति ठप हो गई है। ऊर्जा मंत्री एन. कैब्राल के मुताबिक, तेज हवाओं के कारण अधिकतर इलाकों में बिजली आपूर्ति प्रभावित हुई है। चक्रवाती तूफान से भारी नुकसान की खबर है।  

गृहमंत्री अमित शाह ने खुद संभाली कमान

कर्नाटक से लेकर गुजरात तक चक्रवात के कहर के बीच गृहमंत्री अमित शाह ने खुद आपदा नियंत्रण की कमान संभाली है। शाह ने रविवार को महाराष्ट्र, गुजरात समेत कई प्रदेशों के अधिकारियों और मुख्यमंत्रियों के साथ बैठक कर हालात की समीक्षा की है। बैठक में सभी राज्यों को हर संभव मदद देने का भरोसा दिया है। इसके अलावा यह भी बताया है कि एनडीआरएफ की अतिरिक्त टीमों को भी जरूरत पड़ने पर भेजा जा सकता है। तौकते साइक्लोन पर अमित शाह ने बैठक के दौरान कहा है कि कोरोना मरीजों को समस्या ना आने दी जाए। तूफान से अगर बिजली सप्लाई पर असर पड़ता है तो अस्पताल बैकअप प्लान तैयार रखें।

नड्डा ने कार्यकर्ताओं से किया मदद का आव्हान

भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के राष्ट्रीय अध्यक्ष जगत प्रकाश नड्डा ने चक्रवात ‘तौकते’ के मद्देनजर गोवा, महाराष्ट्र, केरल, कर्नाटक, दमन और दीव एवं गुजरात के भाजपा सांसदों, विधायकों और राज्य पदाधिकारियों के साथ एहतियाती उपाय और राहत कार्यों पर चर्चा की। नड्डा ने कहा कि चक्रवाती तूफ़ान तौकते के रूप में हमारे सामने एक संकट आया है और हमारा अभी मुख्य उद्देश्य यह होना चाहिए कि एक जिम्मेदार राजनैतिक दल के रूप में अपनी जिम्मेदारी को किस तरह निभाएं ताकि तूफ़ान प्रभावितों तक राहत कार्य और मदद अविलंब पहुंच सके और जान-माल की क्षति कम से कम हो।


Post a Comment

[blogger]

MKRdezign

Contact Form

Name

Email *

Message *

Powered by Blogger.
Javascript DisablePlease Enable Javascript To See All Widget