पहले दिन पुत्र व दूसरे दिन पिता की उठी अर्थी

पश्चिम चंपारण 

थाना क्षेत्र के बेलवाटोला गांव में दो दिनों में बेटे और बाप की अर्थी उठ गई है। बेलवाटोला गांव निवासी सतीश शर्मा (35) फर्नीचर मिस्त्री का काम करने के लिए नेपाल के काठमांडू गया था, लेकिन लॉकडाउन के कारण वह नेपाल से अपने ससुराल योगापट्टी गांव पहुंचा, जहां पर उसकी तबीयत खराब हो गई। वह इलाज कराने के लिए बेतिया एक प्राइवेट अस्पताल में पहुंचा। जहां उसका इलाज किया गया। ससुराल आने पर उसे खांसी सर्दी और बुखार तथा सांस लेने में ज्यादा तकलीफ होने लगी थी। योगापटी पीएचसी में एंटीजन से कोविड-19 का जांच कराया। रिपोर्ट आना शेष है। इसबीच उसकी मौत हो गई। मौत की खबर सुनते ही परिजन आनन-फानन में योगापट्टी गांव पहुंचकर शव को लेकर अपने गांव बेलवाटोला आए। उसका दाह संस्कार कर दिए। दाह संस्कार कर घर आने के बाद पिता लालबहादुर शर्मा की मौत हो गई। लाल बहादुर शर्मा पिछले 7 दिनों से बीमार चल रहे थे । उन्हें भी खांसी, सर्दी, बुखार तथा सांस लेने में तकलीफ थी। वे प्राइवेट चिकित्सक से इलाज करा रहे थे। जिनका अंतिम संस्कार बेलवा टोला गांव में किया गया। लोगों में भय का माहौल बना हुआ है। परिजनों में चित्कार मचा हुआ है। मृतक लाल बहादुर शर्मा को 6 लड़के थे। जिसमें मृतक सतीश शर्मा तीसरे नंबर पर थे। सतीश शर्मा को क लड़की वह दो लड़का है। पत्नी रीमा देवी का रो रो कर बुरा हाल है। मृत दोनों व्यक्ति का अंतिम संस्कार मे बहुत ही कम संख्या मे लोग देखे गए। उधर, मामले की जानकारी मिलते ही बीडीओ राज किशोर प्रसाद शर्मा ने बेलवा टोला गांव में कैंप लगाकर कोविड-19 का जांच करने का निर्देश दिया।


Labels:

Post a Comment

[blogger]

MKRdezign

Contact Form

Name

Email *

Message *

Powered by Blogger.
Javascript DisablePlease Enable Javascript To See All Widget