साउथैम्पटन में अच्छा नहीं है टीम इंडिया का रिकार्ड

काउंटी सीजन के 3 मैचों में 2 बार 80 से कम के स्कोर पर ऑलआउट हो चुकी हैं टीमें


साउथैम्पटन

टीम इंडिया को 18 से 22 जून तक ICC वर्ल्ड टेस्ट चैंपियनशिप के फाइनल में न्यूजीलैंड का सामना करना है। यह मैच इंग्लैंड के साउथैम्पटन शहर के द एजेस बाउल में खेला जाना है। भारतीय टीम के लिए यह राउंड अब तक अच्छा साबित नहीं हुआ है। यहां टीम इंडिया ने दो मैच खेले हैं और दोनों में उसे हार झेलनी पड़ी है। इसके अलावा इस काउंटी सीजन में वहां जिस तरह के मुकाबले हो रहे हैं, वह भी टीम इंडिया के लिए खतरे की घंटी है।

पहले मैच में मिडिलसेक्स की टीम  79 पर ढेर हुई

एजेस बाउल में इस काउंटी सीजन के पहले मैच (15 से 18 अप्रैल) में मिडिलसेक्स की टीम सिर्फ 79 रन के स्कोर पर सिमट गई थी। पहले बल्लेबाजी करते हुए मेजबान हैम्पशायर की टीम ने 319 रन बनाए थे। जवाब में मिडिलसेक्स की पारी बिखर गई। हैम्पशायर की ओर से खेलते हुए पाकिस्तान के स्विंग बॉलर मोहम्मद अब्बास ने 6 विकेट लिए थे। इसके बाद हैम्पशायर ने अपनी दूसरी पारी 290/4 के स्कोर पर घोषित कर दी। मिडिलसेक्स की टीम दूसरी पारी में 281 रन पर ऑलआउट हो गई और मेजबान टीम ने यह मुकाबला 249 रन से जीत लिया।

तीसरे मैच में मेजबान टीम 79 पर सिमट गई

ऐसा नहीं है कि इस राउंड पर सिर्फ विपक्षी टीम को मुश्किल हो रही है। तीसरे मैच में समरसेट के खिलाफ खुद हैम्पशायर की टीम 79 रन पर सिमट गई। इस पारी में भी मीडियम पेसर स्विंग गेंदबाजों का दबदबा रहा। लेविस ग्रेगरी ने 26 रन देकर 4 विकेट लिए। क्रेग ओवर्टन और जॉश डेवी ने 2-2 विकेट लिए। ये दोनों भी मीडियम पेसर हैं।

न्यूजीलैंड के पास दमदार स्विंग गेंदबाज

न्यूजीलैंड की टीम का तेज गेंदबाजी आक्रमण काफी मजबूत है। ट्रेंट बोल्ट, टिम साउदी, काइल जेमिसन और नील वैगनर तेज गेंद फेंकने के साथ-साथ स्विंग कराने में भी माहिर हैं। अगर पिच और कंडीशन से उन्हें मदद मिली तो भारत के लिए मुश्किलें खड़ी हो सकती हैं। काइल जेमिसन ने भारत के खिलाफ पिछली टेस्ट सीरीज में 2 मैचों में 9 विकेट लिए थे।


Labels:

Post a Comment

[blogger]

MKRdezign

Contact Form

Name

Email *

Message *

Powered by Blogger.
Javascript DisablePlease Enable Javascript To See All Widget