धोनी से पंत की तुलना करने पर भड़के सिन्हा


नई दिल्ली

ऋषभ पंत की तुलना अक्सर भारत के पूर्व कप्तान और विकेटकीपर एमएस धोनी से की जाती है। 2019 वर्ल्डकप के बाद जब धोनी ने इंटरनेशनल क्रिकेट से संन्यास लेने का फैसला किया तो पंत को उनका रिप्लेसमेंट माना गया। दुर्भाग्यवश इन तुलनाओं ने पंत के फॉर्म पर भी असर डाला। उनके अनियमित प्रदर्शन की वजह से उन्हें टीम इंडिया ने तीनों फॉर्मेटों से बाहर कर दिया था। पंत के बचपन के कोच तारक सिन्हा का मानना है कि धोनी से पंत की तुलना करने पर पंत का मनोबल प्रभावित हो सकता है। मीडिया से बातचीत के दौरान सिन्‍हा ने कहा कि रोहन गावस्कर खराब खिलाड़ी नहीं थे। लेकिन उन्हें हमेशा ये याद दिलाता जाता था कि वो अपने पिता के आस-पास भी नहीं है। पंत के साथ भी कुछ ऐसा ही हुआ। कम खिलाड़ी होते हैं जो ऐसी तुलना का दबाव झेल पाते हैं। लेकिन मैं हमेशा से कहता रहा हूं कि पंत की इच्छाशक्ति ही उनकी सबसे बड़ी ताकत है। इसी के दम पर उन्होंने अपने खेल पर फोकस किया। पंत ने बताया कि वो बहुआयामी स्ट्रोक खिलाड़ी हैं। उन्होंने और स्ट्रोक जोड़े। सिन्हा ने आगे कहा कि पंत को ठीक धोनी की तरह अपने पैर जमाने का मौका देना चाहिए। इसमें किसी को शक नहीं है कि पंत गेमचेंजर और तेजी से सीखने वाले खिलाड़ी हैं। लेकिन बार-बार पंत की धोनी से तुलना क्यों? इस तथ्य को स्वीकार करना चाहिए कि धोनी को दुनिया को यह दिखाने में भी थोड़ा समय लगा कि वह क्या करने में सक्षम हैं। हमें पंत के साथ भी धैर्य रखने की जरूरत है। उसका भी समय आएगा। ये तो अभी शुरुआत है।


Labels:

Post a Comment

[blogger]

MKRdezign

Contact Form

Name

Email *

Message *

Powered by Blogger.
Javascript DisablePlease Enable Javascript To See All Widget