अक्षय तृतीया पर दूसरे साल सोना बेहाल


नई दिल्ली

अक्षय तृतीया पर सोना खरीदने का का रिवाज है। देशभर में इस दिन सोने की जोरदार खरीदारी की जाती है लेकिन कोरोना महामारी ने लगातार दूसरे साल इस पर पानी फेर दिया है। कोरोना महामारी की दूसरी लहर के कारण देश के अधिकांश राज्यों में लॉकडाउन और नाइट कॉर्फ्यू लगा हुआ है। इसके चलते देशभर के 90 फीसदी ज्वैलरी बाजार बंद हैं। वहीं, जो गिनती के दुकान खुले हैं उस पर कोरोना महामारी के डर स ग्राहकों की जाने की उम्मीद बिल्कुल नहीं है। अखिल भारतीय रत्न और आभूषण परिषद (जीजेसी) के अध्यक्ष आशीष पेठे ने बताया कि इस बार कोरोना महामारी का कहर पिछले साल के मुकाबले कई गुना अधिक है। इसके चलते ज्यादातर दुकान बंद हैं। यानी इस बार भी अक्षय तृतीय के अवसर पर कारोबार बिल्कुल नहीं होगा। पिछले साल ऑनलाइन और फोन पर बुकिंग के जरिये थोड़ा ही सही सोने की बिक्री अक्षय तृतीया पर हुई थी।

पिछले साल से खराब स्थिति

पीएनजी ज्वैलर्स के चेयरमैन और प्रबंध निदेशक सौरभ गाडगिल ने बताया कि इस बार भी अक्षय तृतीया पर बिक्री न के बराबर रहेगी, क्योंकि कोविड-19 का परिदृश्य पिछले साल के मुकाबले काफी खराब है। इस साल महामारी ने लागों के डरा दिया है। इससे उपभोक्ताओं का ओवरऑल सेंटिमेंट नकारात्मक हो गया है। अब टीकाकरण अभियान में तेजी आने औैर कोरोना के मामले घटने के बाद ही इस इडस्ट्री में मांग लौटने की उम्मीद है।

सोने-चांदी में निवेश का शानदार मौका

इस साल सोना अपने उच्चतम स्तर से करीब 10 हजार रुपय सस्ता हो चुका है। विशेषज्ञों का कहना है कि इस अवसर का फायदा उठाकार निवेशक सोने में निवेश कर सकते हैं। सोना लंबी अवधि में एक बार फिर से शानदार रिटर्न देगा। आईआईएफएल सिक्योरिटीज के वाइस प्रेसिडेंट (कमोडिटीज एंड करेंसीज) अनुज गुप्ता के अनुसार सोने में छोटी अवधि के लिए निवेश करने वाले निवेशक 47,900 प्रति दस ग्राम के लक्ष्य के लिए मौजूदा भाव पर खरीदारी कर सकते हैं।

Labels:

Post a Comment

[blogger]

MKRdezign

Contact Form

Name

Email *

Message *

Powered by Blogger.
Javascript DisablePlease Enable Javascript To See All Widget