स्वास्थ्य सुविधाओं की मजबूती पर जोर: ठाकरे

uddhav thackerray

मुंबई

कोविड संकट ने सभी को भी सबक सिखाया है, ऐसे में इस तरह की स्वास्थ्य व्यवस्था पर ध्यान दिया जा रहा है ताकि संकटों का सामना आसानी से किया जा सके। राज्य के मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे ने यह बात एक बैठक में वीडियो कांफ्रेंसिंग के जरिए भाग लेते हुए कही। मुख्यमंत्री ने पेटीएम फांउडेशन की सराहना करते हुए कहा कि उसने सरकार की तरफ सहयोग का हाथ बढ़ाया है। ठाकरे ने कहा कि ऐसे संकट के दिनों में राज्य और देश के आर्थिक चक्र को गति देने के लिए इस तरह के प्रयास महत्वपूर्ण साबित होंगे।

दौड़ना पड़ रहा है ऑक्सीजन के पीछे

मुख्यमंत्री ठाकरे ने कहा कि विकास होता रहेगा, लेकिन लोगों की जान बचनी चाहिए, तभी सही मायने में विकास का अर्थ है। हम विकास कहकर जिसके पीछे दौड़ रहे रहे थे, उस विकास ने हमें मुंह दिखाने के लिए जगह नहीं रखी है। अब हमें ऑक्सीजन के पीछे दौड़ना पड़ रहा है।  कोरोना ने हमें सबक सिखाया है, इसलिए आगामी चुनौतियों का सामना करने की तैयारी हमें अभी से ही करनी होगी और हमने तैयारी शुरू भी की है। पहली लहर में हमने बहुत-सी सुविधाएं बढ़ाई, लेकिन अब वहीं सुविधाएं कम पड़ने लगी है। इसलिए अब टीकाकरण शुरू होने के बाद भी स्वास्थ्य सुविधाओं को बढ़ाने पर जोर दिया जा रहा है। जुलाई के बाद बारिश की वजह से भी अनेक संक्रमित बीमारी का फैलाव होता है। उनका सामना करने के साथ-साथ कोविड की तीसरी, चौथी और ऐसी भी बहुत सी लहरों का सामना करने के लिए, लोगों को समय पर उपचार मिले, इसके लिए ज्यादा से ज्यादा सुविधाएं  निर्माण करने पर जोर दिया जा रहा है।

मुख्य सचिव ने केंद्रीय कैबिनेट सचिव को लिखा पत्र

तरल ऑक्सीजन आपूर्ति के लिए मांगे 10 टैंकर्स

राज्य के मुख्य सचिव सीताराम कुंटे ने केंद्रीय कैबिनेट सचिव राजीव गौबा को पत्र लिखकर केंद्र की तरफ से ऑक्सीजन की मौजूदा आपूर्ति को बढ़ाकर 200 मैट्रिक करने और तरल ऑक्सीजन के परिवहन के लिए 10 टैंकर उपलब्ध कराने की मांग की है। कुंटे ने पत्र में लिखा कि राज्य दूसरी लहर का सामना कर रहा है। राज्य के 16 जिलों में मरीज लगातार बढ़ रहे थे, और उनके लिए ऑक्सीजन की आवश्यकता है। रोगियों की बढ़ती संख्या की पृष्ठभूमि को लेकर मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे लगातार ऑक्सीजन, रेमडेसिविर और बेड की समीक्षा कर रहे हैं। राज्य को अधिक ऑक्सीजन की आवश्यकता है और मुख्यमंत्री ठाकरे ने मुख्य सचिव को केंद्र सरकार से मांग करने के निर्देश दिए थे। इस अनुसार कुंटे ने केंद्रीय मंत्रिमंडल सचिव को यह पत्र भेजा। वर्तमान में राज्य में 6 लाख 63 हजार 758 सक्रिय रोगी हैं। इनमें से 78,884 मरीज ऑक्सीजन पर हैं और 24,787 मरीजों का आईसीयू में इलाज चल रहा है। राज्य के 16 जिलों जैसे पालघर, रत्नागिरी, सिंधुदुर्ग, सातारा, सांगली, कोल्हापुर, सोलापुर, नंदूरबार, बीड, परभणी, हिंगोली, अमरावती, बुलढाना, वर्धा, गढ़चिरोली और चंद्रपुर में लगातार रोगी बढ़ने से ऑक्सीजन की मांग बढ़ रही है। मुख्य सचिव ने पत्र में कहा है कि हर जिले में ऑक्सीजन ऑडिट किया जा रहा है। कुंटे ने पत्र में कहा कि राज्य में ऑक्सीजन की बढ़ती मांग को देखते हुए केंद्र सरकार को ऑक्सीजन की वर्तमान आपूर्ति में 200 मीट्रिक टन की वृद्धि करनी चाहिए। 


Labels:

Post a comment

[blogger]

MKRdezign

Contact form

Name

Email *

Message *

Powered by Blogger.
Javascript DisablePlease Enable Javascript To See All Widget