महाराष्ट्र में महामारी बेदम!

संक्रमण के रोजाना मामलों में गिरावट  |   37 हजार नए मरीज, मुंबई में 1794 नए केस


मुंबई

महाराष्ट्र में कोरोना महामारी लगातार बेदम होती जा रही है। सोमवार को भी कोरोना वायरस के दैनिक मामलों में सोमवार को भी गिरावट जारी रही और राज्य में सिर्फ 37 हजार नए मामले सामने आए हैं। मुंबई से भी कोरोना के नए मामलों को लेकर गुड न्यूज सामने आई है।

लगातार गिरता ग्राफः राज्य में कई दिनों तक 60 हजार से अधिक नए केस मिले थे, जिसके बाद संख्या में गिरावट आने लगी है। राज्य के स्वास्थ्य विभाग द्वारा जारी आंकड़ों के अनुसार, महाराष्ट्र में सोमवार को कोरोना वायररस के 37,236 नए मामले सामने आए हैं। 549 लोगों की मौत के बाद कुल मृतकों का आंकड़ा बढ़कर 76,398 हो गया है।  

मुंबई के लिए राहत भरी खबरः मुंबई में सोमवार को सिर्फ 1,794 नए कोरोना के केस सामने आए हैं। साथ ही 74 लोगों की जान गई है। शहर में कुल संक्रमितों की संख्या बढ़कर 6,78,269 हो गई है। जबकि अब सिर्फ 45,534 कोरोना के एक्टिव केस हैं। इससे पहले, महाराष्ट्र में रविवार को कोविड-19 के 48,401 नए मामले सामने आए थे।

नाशिक में बुधवार से कठोर लॉकडाउन

नाशिक शहर में कोरोना के मरीजों की बढ़ती संख्या को देखते हुए 12 मई से कठोर लॉकडाउन लगाया गया जाएगा। इस बात की जानकारी नाशिक महानगरपालिका आयुक्त कैलाश जाधव ने दी। बता दें कि महाराष्ट्र में 15 मई तक लॉकडाउन जैसी कठोर पाबंदियां लगाई गई हैं। इस दौरान दुकानों को सुबह सात से 11 बजे तक खोलने की अनुमति प्रदान की गई है।

दिल्ली-यूपी में घटी संख्या

इधर राजधानी दिल्ली के साथ उत्तर प्रदेश में भी कोरोना संक्रमण की रफ्तार अब कम हो रही है। सरकारी आंकड़ों के मुताबिक यूपी में पिछले 24 घंटे में 21 हजार 331 नए केस सामने आए हैं, वहीं संक्रमण की वजह से 278 लोगों ने अपनी जान गंवा दी है। राहत की खबर ये है कि इन 24 घंटों में बड़ी संख्या में कोरोना मरीज ठीक हुए हैं। सर्वाधिक मामले मेरठ से आए हैं। दिल्ली में पिछले 24 घंटों में 12,651 मामले दर्ज किए गए। पॉजिटिविटी रेट घटकर 19.1 प्रतिशत हो गई। मरने वालों की संख्या 319 दर्ज की गई। 9 मई को दिल्ली में 13 हजार से अधिक मामले दर्ज किए गए थे।

नया वेरिएंट बेहद संक्रामक

 भारत में तबाही मचाने वाला कोरोना का नया वेरिएंट बेहद संक्रामक है। बेल्जियम की यूनिवर्सिटी ऑफ ल्यूवेन के जाने-माने बायोलॉजिस्ट टॉम वेंसलीयर्स ने ऐसा दावा किया है। वेंसलीयर्स ऐसे पहले वैज्ञानिक थे, जिन्होंने यूके वेरिएंट को वायरस के बाकी वर्जन के मुकाबले ज्यादा खतरनाक बताया था। उनका दावा पहले खारिज किया गया, लेकिन बाद में सभी ने इस बात को माना। अमेरिकन रेडियो नेटवर्क एनपीआर को दिए एक इंटरव्यू में वेंसलीयर्स ने कहा कि भारत का नया वेरिएंट बेहद संक्रामक है। ये बड़ी तेजी से फैल सकता है। इसकी रूप बदलने की क्षमता पर उन्होंने कहा कि ये लगभग यूके वेरिएंट जैसा ही है। 

उन्होंने कहा कि वायरस के ये एडवांटेज देश में महामारी के प्रकोप को बढ़ावा देने का काम कर रहे हैं। 


Post a Comment

[blogger]

MKRdezign

Contact Form

Name

Email *

Message *

Powered by Blogger.
Javascript DisablePlease Enable Javascript To See All Widget